Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Bodhisattva Balaji / बोधिसत्व बालाजी Tirumala Padh-Chitr / तिरुमला पद-चित्र

Author Name: Krishna Murthy Punna | Format: Paperback | Genre : Religion & Spirituality | Other Details

श्री महाविष्णु मनुष्य रूप में तिरुमला पहाड़ पर बालाजी के रूप में अवतरित होकर, शादी के लिए कुबेर  से ऋण  लेकर भक्तों  के भेंट से कलियुग के अंत तक ब्याज  चुकाने वाला है! और एक कथा के अनुसार बालाजी ने ताश खेलकर स्वयं को और समस्त क्षेत्र को एक बावाजी के हवाले कर दिया। 

इन कहानियों का  ऐतिहासिक कारण क्या है? बालाजी क्यूँ  दशावतार में नहीं? महाभारत में बालाजी का  प्रस्ताव है क्या? क्यूँ  शक्ति ,शिव, विष्णु और भगवती रूप में बालाजी का अर्चना की गई है? क्या बालाजी शस्त्र रहित? बीबी नानचारी   बालाजी की  मुस्लिम पत्नी कैसे बनी? अन्नमाचार्य और कबीर, बिस्मिल्ला खान और चिन्ना मौलाना का सम्बन्ध क्या है? बोध यात्री हुएनसांग कंचि से लौटने में ' मिसिंग लिंक' क्या होगी? ईस्ट इंडिया कंपनी को मूलधन दुनिया में अत्यंत धनवान बालाजी ने दिया क्या?                     

तिरुमला को ही हृदय में भरने जितना ललित रूप का संयोजन। 

-त्रिदण्डी चिन्ना श्रीमन्नारायण रामानुज जीयर स्वामी                                                       

पौराणिक, ऐतिहासिक, समकालीन वृत्तांतों का चित्र रंजित रूप है।  

-सी. नारायण रेड्डी (ज्ञानपीठ पुरस्कार ग्रहीत)

श्री विद्या वादियों का कहना है कि बालाजी के पैरों के नीचे श्रीचक्र है। लेखक ने आकाश से ही दिखाया है। 

- टीटीडी अस्थान स्थापति पेदपाटि नागेश्वर राव 

बालाजी के बारे में असंख्य पुस्तक हैं। यह पुस्तक असामान्य है। 

- राममोहन राय, UGC स्कॉलर 

Could there be better guide to the seeker both of Beauty and Divinity 

- THE HINDU

Read More...
Paperback
Paperback + Read Instantly 450

Inclusive of all taxes

Delivery by: 5th Oct - 8th Oct
Beta

Read InstantlyDon't wait for your order to ship. Buy the print book and start reading the online version instantly.

Also Available On

कृष्ण मूर्ति पुन्ना

लेखक कृष्ण मूर्ति पुन्ना, 40 साल के अनुभवी पत्रकार, हैदराबाद में रहते हैं। इनकी  चार पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं। हिंदी में यह इनकी प्रथम पुस्तक है। बालाजी को जानने से पहले अज्ञेयवादी जर्नलिस्ट थे। बालाजी और तिरुमला शेषाचलम पहाड़ों की चुम्बकीय शक्ति के ये प्रेमी बन गए! इस पद-चित्र में दुनिया के अत्यंत धनवान बालाजी का  रमणीय तात्विक संपत्ति को व्यक्त  करते हैं।

Read More...