10 Years of Celebrating Indie Authors

Share this product with friends

Chahat / चाहत

Author Name: Rensi Boghara | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

चाहत-वाह कितना अद्भुत शब्द है, सुनते ही चेहरे पर मुस्कराहट आ जाती है। ये सुनने में जितना अच्छा लगता है, निभाने में उतना ही कठिन है।हम हमारी लाइफ में कई सारे इंसानों से मिलते हैं, हम इंसान का स्वभाव ही ऐसा है। हम सब एक दूसरे से मिलते रहे ओर ऐसे ही चलता रहा। लेकिन हम सब अपनी लाइफ में एक बार तो ऐसे दोर से गुजरते ही है, जहां हमें ऐसी चीज की चाहत होती ही है,जिसे हम कभी नहीं पा सकते। वो लोग बहुत खुशनसीब होते हैं, जिसको अपनी चाहत हासिल होती है। चाहत हमारे दिल में छुपा वो अधुरा हिस्सा है जिसे हम चाहकर भी पुरा नही कर पाते। ऐसा जरूरी नहीं चाहत लोगों तक सीमित है,चाहत तो किसी भी हो सकती है। किसी चीज की चाहत तो हम केसे भी पा लेते हैं, लेकिन जब हमारी चाहत किसी इंसान की हो तब वो हम ऐसे ही नही पा सकते। मेने खुद इस चाहत का अनुभव किया है,जब आप अपनी दिल की बात नहीं बता सकते तब तक आप दिल पे बोझ रखकर चल रहे हैं ऐसा लगता है।इस लिए मैंने इस "Chahat-The secret Emotion" Anthology की मदद से उन सभी लोगों को अपने दिल में छुपाकर रखें खुबसूरत रिश्तों को बयां करने का मौका देने की कोशिश की है।

Read More...
Paperback
Paperback 200

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

रेन्सी बोघरा

संकलक

उसका नाम रेंसी बोघरा है। वह लड़की मेहनती है और लेखन उसके जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है। उनका मकसद अपने लेखन के माध्यम से लोगों को प्रेरित करना हैं। रेंसी की अपनी अनूठी लेखन शैली है। आप उसे इंस्टा पर फॉलो कर सकते हैं

सह-संकलक

विजय सिंह पँवार देवभूमि उत्तराखंड की राजधानी देहरादून के रहने वाले हैं तथा इन्होंने यहीं से बचपन से लेकर अब तक सारी शिक्षा-दीक्षा प्राप्त की। यह रुद्रप्रयाग जिले के सुदूर गाँव गौंडार के मूल निवासी हैं। इन्होंने दो पंक्ति के शेर, चार पंक्ति की शायरी, लघु कविता, कविता विधा में अनेक रचनाएं लिखी हैं। और वह अपनी एकल पुस्तक प्रकाशित करवा चुके हैं जिसका नाम “मेरी ज़िन्दगी के किस्से” है।

Read More...