Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

INDU KI SHAYARI - 2 / इंदु की शायरी - 2

Author Name: Indu Singh | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

मेरी शायरी की दूसरी किताब *इन्दु की शायरी - 2* आप तक पहुंचाते हुये मुझे बेहद निशात-ओ-इशरत का एहसास हो रहा है।

*इन्दु की शायरी* सुखनवर के दिली जज़्बातों का सदरंग गुलशन है जिसमे क़ायनात के हर ग़ुल अपने पूरे शबाब पर हैं।

शायरी काव्य की एक ऐसी विधा है जिसमे अदावत भी बड़ी नज़ाक़त और शराफत से पेश की जाती है, फिर मोहब्बत के अदब ओ तहज़ीब का तो कहना ही क्या...।

*इन्दु की शायरी* मे व्यक्ति, समाज और मुल्क के सभी पहलुओं को हिन्दी, उर्दू, फारसी और अरबी अल्फाज़गी में समेट कर पुरनूर बनाने की कोशिश है। नज़्मों मे मोहब्बत, अदावत, शिकायत, नज़ाक़त, शराफत और वतनपरस्ती के जज़्बात अपनी दिलकश अदाओं के साथ मौजूद है। बाकी अन्जाम तो आप पर निर्भर है। हमे तो बस बेक़रारी से इन्तज़ार है...

देखें इस शमशीर में जी, धार कितनी है

उनके ज़िगर के जाती, आर पार कितनी है

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 300

Inclusive of all taxes

Delivery by: 28th Jan - 1st Feb

Also Available On

इंदु सिंह

मेरा जन्म बिहार के छोटे से शहर डुमराँव में 29 फरबरी 1952 को एक सुखी सम्पन्न परिवार में हुआ। नानी स्व छछन देवी और नाना स्व राजा प्रसाद सिंह के नेह-छोह और लाड़-प्मार की शीतल छाया में बचपन कब कैसे बीत गया पता ही नहीं चला। 

प्रारंभिक से माध्यमिक तक की शिक्षा तात्कालीन मुजफ्फरपुर जिला, वर्तमान सीतामढ़ी जिले के कमला बालिका उच्च विद्यालय डुमरा में सम्पन्न हुयी। इस विद्यालय के प्रधानाध्यापक स्व. कुंजबिहारी शर्मा जी को शत शत नमन है जिनके कठोर स्नेहिल अनुशासन ने मेरे किशोरावस्था के व्यक्तित्व में सभी रंग समावेशित कर उन बुलन्दियों पर पहुँचा दिया जो मरते दम तक अपनी छव-छटा के साथ विद्यमान रहेंगी।

मेरे बचपन का गाँव *रेबासी *जहां मेरी नानी माँ, नाना बापू और मेरी सखी सहेलियाँ थीं - की माटी को शत शत नमन है। 

विशेष आभार प्यार और अशेष आशीष मेरे नाती आयुष अम्बर को जो मेरी पुस्तकों का आकर्षक आवरण पृष्ठ तैयर कर उसकी सुन्दरता में चार चाँद लगा देते हैं। 

अन्ततः बहुत बहुत आभार, शुभकामनाएं अनन्य स्नेह और आशीष बेटे अंकित मन्नू को जो पुस्तक प्रकाशन सम्बन्धी तमाम जिम्मेवारियों का निर्वहन पूरे लगन से कर प्रकाशन को संभव बनाते हैं...... 

                                                                                       शुभकामनाओं सहित 

                                                                                                    —  इन्दु —

Read More...