Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Rahasyamayi Lucky draw / रहस्यमयी लकी ड्राॅ

Author Name: Dr. Abhishek Shrivastava | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

आधी रात के अंधेरे में खिड़की के कांच पर मानवाकृति के सिर की परछाई दिखाई दी, जिसने सिर पर कुछ ओढ़ रखा था। जानकी ने जैसे ही उस ओर देखा, जोर से चीखने की कोशिश की, लेकिन शायद डर के कारण आवाज ने भी धोखा दे दिया था। जानकी ने सो रहे शर्मा जी को उठाने के लिए हल्का सा धक्का दिया, शर्मा जी ने घबड़ाकर आंखे खोल दी। जानकी को बैठा हुआ देखकर शर्मा जी भी उठकर बैठ गये - ‘‘क्या हुआ इतनी रात को ऐसे क्यों बैठी हो?’’ जानकी की ओर देखकर शर्मा जी ने आश्चर्य से पॅूछा। जानकी ने खिड़की की ओर देखकर कहा- ‘‘वो देखिए वहां क......क.....कौन है...............कहीं वो’’ 

Read More...
Paperback
Paperback 225

Inclusive of all taxes

Delivery by: 18th May - 21st May

Also Available On

डाॅ. अभिषेक श्रीवास्तव

जबलपुर(मध्यप्रदेश),निवासी डाॅ. अभिषेक श्रीवास्तव, द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड एकाउंटेन्ट ऑफ इंडिया से सर्टिफाइड एकाउंटिंग टैक्नीशियन हैं। एम.काॅम ई-काॅमर्स से, पी.जी.डी.सी.ए. एवं एम.एससी. कम्प्यूटर साइंस से पूर्ण करने के उपरांत लेखन की दुनिया में इन्होंने कदम रखा और वर्तमान दौर के भारतीय लेखकों में भी अपना एक स्थान बना चुके हैं। यह उनकी 12वीं किताब है। लेखक अपने पिता डाॅ. संत शरण श्रीवास्तव को प्रेरणास्रोत मानते हैं।

Read More...