10 Years of Celebrating Indie Authors

Share this product with friends

Roshanamay / रोशनमय

Author Name: Kavi Sri Roshan Ji | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

नमस्कार राम राम देवियों और सज्जनों मेरा नाम कविश्री रोशन रोहित है इंदौर मध्यप्रदेश का निवासी हु और अक्सर मुझे कविश्री रोशन जी के नाम से जाना जाता है। और मै एक अभियंता हु नक्शे बनाना मेरा रोजगार है और मै सभी पाठको को आभार व्यक्त करता हु जिन्होंने मेरी पुस्तक को खरीदा है और मेरी किताब को पड़ा है और सम्मान दिया है।

ये किताब लिखना मेरा सपना था और आज पूर्ण हुआ है मगर ये सपना इतनी आसानी से पूरा नही हुआ इसमें मेरे गुरुजी ( कीर्ति बंसल उर्फ अनामी जी) का आशीर्वाद है जिनके बिना ये कवि का जन्म भी नही हो सकता था और मेरे माता पिता का साथ है जिन्होंने मुझे लिखने के लिए प्रेरित किया। मेरे पिताजी जिनका नाम हरिराम रोशन है वो भी एक कवि है पर उन्होंने सामाजिक व्यस्तता होने के कारण कभी जाहिर नही कर पाए और मेरी माता जी रूक्मणी रोशन जो मेरी कविता सुनकर मुझे प्रेरित करती है और मेरे दादाजी जिनका नाम दोजपाल रोशन है उनकी भी किताब आई है मगर वो सामाजिक कार्यकर्ता में अपनी कर्मठ के कारण उनकी आत्मा जीवनी आई है जो समाज कार्य को बताती है।

ये किताब की शुरवात एक सपने देखने से हुई जो सन 2009 मै देखा गया था मगर कोई अंदाजा नहीं था कि कैसे होगा ये ,मगर 13 साल के कठिन साधना से ज्ञान अर्जित करने के बाद ये पुस्तक सन 2021 के सितंबर महीने में प्रकाशित हुई जिसमे अंशय प्रकाशन जिनके कर्ताधर्ता और मालिक देवि रोशन खातून जी है जो असम में रहती है उनको मैं तहे दिल से आभार व्यक्त करता हु और भविष्य मैं भी उनका साथ सदा कायम रहेगा और अन्य पुस्तक के लिए शुकरिया आभार आपका देवि रोशन खातून जी।

Read More...
Paperback
Paperback 500

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

कविश्री रोशन जी

मैं “कविश्री रोशन जी” जो कि इंदौर मध्यप्रदेश के रहवासी है और एक अभियंता भी हैं । ये किताब के रचियता इसलिए रचित कर रहा हु क्योंकि जो कविता संग्रह मैने विगत 12 वर्षो यानी सन 2009 से मेरी रचनाएं बनी है उसे एक नए आयाम के रूप मै प्रकाशित करना चाहता हु और समस्त कविता संग्रह एक आयाम पर मिले। इस किताब के माध्यम से मैं ये कहना चाहता हु कि आपने जीवन के अनमोल पलो को मैने शब्दो मैं ऐसे पिरोया है जैसे ये भावना किताब पड़ने वाले श्रोता की हो। मैं सन 2009 से कविता लिख रहा हु अपने गुरु का आव्हान और आशीर्वाद प्राप्त करके और समस्त कविता मै अपने गुरुजी को समर्पित करता हु। क्योंकि उनके आशिर्वाद के बिना बिलकुल संभव नहीं था।

मैं कविश्री रोशन रोहित जी आपको विभिन्न आयामों पर जैसे इंस्ट्राग्राम:- kvivr , फेसबुक:- Roshan ji और YouTube:- Roshan Rohit नाम से मिल जाता हूं। और मेरा नाम (8269105818 & 9111672818) और पता (e-130 dwarkapuri indore MP) जिससे आप मुझे संपर्क साध सकते है। और कविता लिखने का उद्देश्य है अपने नाम के साथ साथ सारे संसार को रोशन करना।

Read More...