10 Years of Celebrating Indie Authors

Share this book with your friends

Tanha / तनहा भीड़ में ढुंढता एक चेहरा हूं तनहा हूं और तेरा हूं

Author Name: S R Bankariya | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

लेखक की कलम से,

यह किताब मेरी ओर से उन सभी प्रेमियो को समर्पित है जो अपने साथी के प्रेम में पूर्ण रूप से पूरी सच्चाई के साथ ताउम्र निस्वार्थ भाव से प्रतिबंधित रहते है। मैं उन सभी सच्चे प्रेमियों की भावना की कद्र करता हूं जिनके प्रेम में अथाह पवित्रता होती है किंतु दुर्भाग्यवश वो जिंदगीभर के अटूट बंधन में नहीं बंध पाते।

यह किताब कटाक्ष है उन सभी लोगों पर जो प्रेम जैसे पावन रिश्ते का सहारा लेकर हवस और धोखे का गंदा खेल खेलते है। किसी की भावना के साथ जानबूझकर खेलना निहायत घटियापन की निशानी है, मेरी विनती सभी से कि प्रेम की आड़ में किसी को धोखा देना जघन्य अपराध है ऐसा न करे।

यह किताब सीख है उन सभी नादान लोगों के लिए जो बिना कुछ सोचे समझे प्रेम में पड़ जाते है और फिर कभी उभर नहीं पाते। प्रेम की शुरुआत बहुत ही सुहानी होती है । हम समझ नहीं पाते क्या हो रहा है और अनजाने ही ऐसे बहुत से वादों, भावनाओ में बंध जाते है जिनसे भविष्य में निकल पाना नामुमकिन हो जाता है। इसीलिए मेरा कहना है सभी से कि प्रेम के पवित्र रिश्ते मे पड़ने से पहले अपनी सीमाओं का आकलन जरूर करे। बिना सोचे समझे किसी भी ऐसे वादे से खुद को न बांधे जो आगे चलकर आपको या आपके प्रेमी को भावनात्मक रूप से क्षतिग्रस्त कर दे। याद रखे पारदर्शीता ही सच्चे प्रेम की असली पहचान होती है।

यह किताब किसी भी तरह से किसी अनैतिक कृत्य का समर्थन नहीं करती अपितु एक कोशिश है जिंदगी के अनुभवों को एक सूत्र में पिरोकर प्रस्तुत करने की। अन्ततः मैं इतना ही कहना चाहता हूं कि प्रेम दो लोगो के बीच एक बहुत खास बहुत अनोखा रिश्ता होता है इसे महज दिल बहलाने का माध्यम न बनाए। 

Read More...
Paperback
Paperback 261

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

एस आर बेंकरिया

नाम : एस आर बेंकरिया

जन्म स्थान: निम्नागाॅव, मध्यप्रदेश 

शिक्षा : सूचना प्रौद्योगिकी अभियांत्रिक 

व्यवसाय : अभिनेता, गायक, लेखक

जीवनकाल : प्रारंभिक शिक्षा गांव के विद्यालय और माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा तहसील नस्सेरूल्लागंज के सरकारी विद्यालय से पूर्ण की और स्नातक के लिए इंदौर के जगद्गुरू दत्तात्रेय प्रौद्योगिकी महाविद्यालय में दाखिला लिया। 

जीवन की शुरूआत एक शिक्षक के रूप में की फिर सपनो को पूरा करने के लिए माया नगरी मुम्बई का रूख किया। शुरूआती संघर्ष के दौर में कुछ छोटे मोटे काम के साथ मैकडोनाल्ड, निशान मोटर्स, धीरूभाई कोकिलाबेन अस्पताल और भी छोटे छोटे काम किए। 

अभिनेता के तौर पर सिरियल्स फिल्म्स में कार्यरत है और गायन में एक संग्रह "जिद्दी बड्डी" और तीन एकल गान उपलब्ध है।

लेखन में पहला कवित संग्रह "तन्हा" उपलब्ध है।

Read More...

Achievements