#National Writing Competition

Share this product with friends

Tu syahi kalamkaar ki / तू स्याही कलमकार की

Author Name: Abhishek Mishra | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

" तू स्याही कलमकार की " अभिषेक मिश्रा की पहली रचना है । पुस्तक में अभिषेक मिश्रा ने वही लिखा है जो उन्होंने इस समाज में महसूस किया है। इस पुस्तक में उन्होंने समाज की कुरीतियों के साथ-साथ प्रेम संबंध को भी दर्शाया है। इस पुस्तक में कविताओं के साथ साथ ग़ज़लों का भी संग्रह है जो आपको आपकी पुरानी यादों से मुलाकात कराएगी । तू स्याही कलमकार की,माॅं, पिता, तुम्हारी चिट्ठी आई है जैसी कविताएं आपके दिल को छू लेगी ।। इस पुस्तक में 33 कविताएं और ग़ज़लें हैं ।।

Read More...
Paperback
Paperback 100

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

अभिषेक मिश्रा

" तू स्याही कलमकार की" पुस्तक अभिषेक मिश्रा की पहली रचना है। इस पुस्तक में उन्होंने समाज की कुरीतियों के साथ-साथ प्रेम संबंध को भी दर्शाया है। वे बताते हैं कि उन्हें बचपन से ही लिखने का शौक रहा है और वह कवि हरिवंश राय बच्चन, प्रेमचंद, रामधारी सिंह दिनकर, शैलेश लोढ़ा और कुमार विश्वास को अपनी प्रेरणा मानते हैं। उन्हें लिखने के साथ साथ किताबें पढ़ना, चित्र बनाना और शतरंज खेलना भी पसंद है। 

Read More...