Hindi

लिख तो मैं कुछ भी सकता हूँ
By Vishwanath pratap singh marakam in True Story | Reads: 227 | Likes: 1
लिख तो मैं भी सकता हूँ साहेब पर जमानतदार आयेगा कोंन..! चल रहा महीना सावन का हरेली का तिहार लिखूं या  बस्तर में हो रहे  Read More...
Published on Jul 22,2020 11:31 AM
Tha vo koie or
By dwiza in Poetry | Reads: 89 | Likes: 1
POEM – Tha vo koie or    Vo tum hi the jo mujhse Pyaar krte the Ya tha voh koi or Vo tum hi the jo mera Bhutt khyal rkhte the Ya tha voh koi or Vo tum hi the jiska  mujhe dekhe Bina mann nhi lgta tha Ya tha voh koi or Vo tum hi the jiska mujhse  baat Kie bina din nhi niklta  Read More...
Published on Jul 23,2020 12:25 AM
जो हो रहा उसे होने दो
By Durgesh Jayam kurmi in Poetry | Reads: 128 | Likes: 0
जो हो रहा उसे होने दो तुम ज्यादा ना दुखी हो  थोड़ा-सा तुम ध्यान करो  फ़िर जा के चिन्तन करो  जो हो रहा उसे होने दो    Read More...
Published on Jul 23,2020 05:35 PM
बाढ़ और समाज
By ram kumar in Poetry | Reads: 98 | Likes: 1
देख उफान  नदियों  का   खोफ भर आई है । भिरुता की आहट से  मुकर कर  जाएं कहां । निल जल  जो  आंगन मे‌ आई मानस पटल   Read More...
Published on Jul 24,2020 05:38 PM
मजहब
By Disha chaudhari in True Story | Reads: 152 | Likes: 1
मजहब " रिश्तों में भी मजहब होता है अगर  दिलों में खुदा का एहसास हो।" उन दोनों को एक दूसरे के साथ नहीं रहे पाए, एक दूसर  Read More...
Published on Jul 24,2020 08:03 PM
अकेलापन
By Kuldeep Vaishnav in Poetry | Reads: 154 | Likes: 2
उसको कहना बहुत कुछ है तुमसे, पर कहने से डरता है,  शायद अकेला सा रह के, अब अकेलापन अखरता है। वो चिल्लाता है कभी , पर तुम  Read More...
Published on Jul 25,2020 07:46 PM
ishq ki tajurba
By Rehan in Poetry | Reads: 93 | Likes: 0
Tajoorba  kahta hai  ishq se kinara kr loo.. aur ishq  kahta hai ye tajurba dubara kr loo..  Read More...
Published on Jul 25,2020 10:08 PM
मेरा एक अनोखा रिश्ता
By Sanskriti garg in Poetry | Reads: 95 | Likes: 1
आज मुझे समझ आया ... मेरी माता की और मेरी छोटी छोटी बात पर इतनी नोंक-झोंक क्यों होती है ,,, क्योंकि.... क्योंकि  किस्मत भी   Read More...
Published on Jul 26,2020 02:16 PM
एक खयाल
By shivani singh in Poetry | Reads: 106 | Likes: 1
यूँ ही मैं बैठी थी,हवाएँ जैसे कुछ कह रही थी जैसे कुछ पीछे छूट रहा हो,जज़्बात यूँ मन को बहका रहे हों, ये जो शब्दों का बां  Read More...
Published on Jul 27,2020 03:58 PM
Ek Lamha
By Fawad Ahmed in Poetry | Reads: 122 | Likes: 0
Mujhe Achanak Guzra Hua Lamha Yaad Aa Gaya, Main Khayalun Mai Ishq Ki Galiyun Se Guzar Gaya, Woh Mera Guzra Hua Lamha Kehe Raha Tha, Aaj Bhi Mai Tumhe Buhut Yaad Karta Hoon, Maine Usse Kahaan Q Waqt Ko Barbaad Kar Rahe Ho, Maine Sikh Liya Hai Akela Zindagi Guazara Kaise Jata Hai...... Kahaani Khata  Read More...
Published on Jul 28,2020 04:02 PM
पता नहीं
By Aryan in Poetry | Reads: 255 | Likes: 4
सब कहते हैं कि मैं ऐसा हूँ, सब कहते हैं कि मैं वैसा हूँ, पर क्यूँ, ये पता नहीं।   सब कहते हैं कि मैं ग़ुस्सैल हूँ, दुनिय  Read More...
Published on Jul 29,2020 07:46 AM
ज़िन्दगी
By Paul Reji George in Poetry | Reads: 122 | Likes: 0
किताबे बोहोत पड़ ली, इंसानियत के इस प्रणाली का हिसा बनकर एक लम्हे की खुशी भी आजमा ली अब थक चुका हूं सच्चाई की इस खोज म  Read More...
Published on Jul 29,2020 11:43 AM
आँखोंको मिलने दो इस दिलसे
By Paul Reji George in Poetry | Reads: 144 | Likes: 0
कुछ  केहेना था तुमसे   बस यही की जानेसे पहले एक दफा उन आँखोंको  मिलनेदो इस दिलसे   उनकी यह गुफ्तगू  होने द  Read More...
Published on Jul 29,2020 11:46 AM
Bachche!
By Sana Malhotra in Poetry | Reads: 99 | Likes: 0
Aao saathiyo hum apne Mata pita ko sarahe! Ma tune mujhe janam diya, uska main karzdar Hu aur Zindagi bhar rahunga! Ma aur papa aapne mujhe har woh cheez sikhayi jisse main yeh keh saku ki mere andar gun hai! Mere andar bhi sanskar hai! Ma aapne mujhe rotiya paka kar khilai! Baba aapne mujhe cheeze   Read More...
Published on Jul 30,2020 09:18 PM
रैना बीती जाए
By Aryan in Poetry | Reads: 175 | Likes: 1
बिहार के बाढ़ पीड़ितों की कहानी,  कुछ शब्द मेरी ज़ुबानी। फूटे नसीब या रूठी तक़दीर, विपदा की ये आखिर कैसी तसवीर। उम्मी  Read More...
Published on Jul 31,2020 07:41 AM