Hindi

ऑफिस टाइम
By sai Prasad Mahapatra in True Story | Reads: 79 | Likes: 0
ऑफिस टाइम(साई महापात्र) ____________ हर दिन सुबह उठना और ९ बजे से पहले तैयार होना और  ऑफिस में जाकर काम करना और  फिर शाम क  Read More...
Published on Jun 25,2020 12:27 PM
MAA
By Aditi in Poetry | Reads: 68 | Likes: 0
                         Maa❤️Unjh so mudde te likhla jdd teri vaari aandi...Hth kmbhde ne...jubaan sukh jndi...Subha hote hi tumhe dekhna m chaun ...Tujhse khub ladhu tujhe kh  Read More...
Published on Jun 26,2020 12:33 PM
एक और नया डर....
By Somya Gupta in Poetry | Reads: 77 | Likes: 0
सबके मन में जगा दिया है नया डर  जब आया करोना वायरस चाइना से इधर  मास्क लगाए घूमे लोग  चाहे हो करोना वायरस या स्मॉ  Read More...
Published on Jun 26,2020 11:05 PM
वो माँ बाप ही होते हैं
By Anubhav Mishra in Poetry | Reads: 74 | Likes: 0
वो माँ बाप ही होते हैं...❤️ जो तेरे जज्बातों को जुबान पर आने से पहले ही जान जाते हैं, वो माँ बाप ही होते हैं जो तेरे चेह  Read More...
Published on Jun 28,2020 01:08 PM
तलाश जारी है
By Shyam Jangra in Poetry | Reads: 93 | Likes: 0
जो नही है जमी पर उस की तलाश जारी है, सब ले तेरा नाम बदल गये किस्मत अब तेरी बारी है।   जो कभी गुम हुआ नही उस की तलाश जार  Read More...
Published on Jun 28,2020 02:50 PM
सिमट गई घड़ियाँ
By Preeti Agrawal in Poetry | Reads: 70 | Likes: 0
सिमट गई घड़ियाँ समझ लो तुम मन की लड़ियाँ, सिमट गई घड़ियाँ वक़्त के साथ तुम, बटोर लो चुनौतियाँ मत गिनो तुम सिर्फ अपनी   Read More...
Published on Jun 29,2020 02:38 PM
Dil ke alfaz
By Tasmiya shaikh in Poetry | Reads: 75 | Likes: 0
Tujhe pane ke Safar me main khud ka Safar bhul gai tere raho me ulajh Kar main khud ki rahe bhul gai  Read More...
Published on Jun 29,2020 03:01 PM
Dil ke alfaz
By Tasmiya shaikh in Poetry | Reads: 64 | Likes: 0
Tujhe pane ke Safar me main khud ka Safar bhul gai tere raho me ulajh Kar main khud ki rahe bhul gai Teri yaaden mujhe par is qadar zulm Karti hai ke raate guzar jati hai aur nind nhi aane deti hai Mohobbat Jo karoge tu daga bhi Pauge saza bhi Pauge aue phir bewafa bhi tumhi kehlauge Wo raate mujhe   Read More...
Published on Jun 29,2020 03:06 PM
Shakti
By jigyasa chanana in True Story | Reads: 94 | Likes: 1
Tu nari hai tu Shakti hai miserable lives of womy  Read More...
Published on Jul 2,2020 04:19 PM
कैसा यह काल है नहीं हमें मंजूर
By ???? in Poetry | Reads: 165 | Likes: 1
कैसा काल आया है नहीं हमें मंजूर आज इंसान को  कफन  नहीं मिल रहा  अपना आज !रो रहे हैं  अपने उसके थोड़ी देर मिला दो   Read More...
Published on Jul 2,2020 06:27 PM
दो भाई - प्यार जान से बढ़ के
By Hrithik Raj in True Story | Reads: 120 | Likes: 1
                                          दो भाई                                   प्यार   Read More...
Published on Jul 2,2020 10:46 PM
मछली और मगरमच्छ [चतुर मछली पर कोई काम का नही]
By Hrithik Raj in General Literary | Reads: 114 | Likes: 1
                            मछली और मगरमच्छ                      [चतुर मछली पर कोई काम का नही]  यह  Read More...
Published on Jul 3,2020 11:09 PM
Drowning In Despair
By Aarzoo in Poetry | Reads: 142 | Likes: 1
What can be felt  Can never be explained This night I ask my soul  To drown in despair The lights that once guided me  Are the ones that blinded me They burned my home to ashes  And left me to rot on the streets Like muddy balls of fur  I too wandered the earth  Wit  Read More...
Published on Jul 7,2020 12:22 PM
TERI MUSKURAHAT
By Shekar Sikder in Romance | Reads: 74 | Likes: 0
""तेरे उस हसी को..  खोनेना दू किसी और को ।  तेरे उस लबो को..  चुमनेना दू किसी और को ।  तुझे रक्लू अपने दिल के घर पें..&n  Read More...
Published on Jul 7,2020 06:43 PM
जैसी करनी वैसी भरनी
By Mukesh Saini in True Story | Reads: 239 | Likes: 1
वास्तविकता में यह कथन बिल्कुल सही है जैसी करनी वैसी भरनी जैसा आप करेंगे आज नहीं तो कल वैसा ही आपको भोगना होगा ठीक इस  Read More...
Published on Jul 8,2020 09:50 AM