Join India's Largest Community of Writers & Readers

Devendra Kumar Prabhakar

Writer, Social worker, Entrepreneur
Writer, Social worker, Entrepreneur

धर्म और उसका व्यापार

Books by इंजीनियर डी॰ के॰ प्रभाकर

भारत एक धर्म प्रधान देश है, और इसमें अनेक धर्मों का बोलबाला रहा है। प्रत्येक धर्म की अपनी अपनी मान्यताएँ है, किन्तु एक बात सभी धर्मों में एक जैसी है। प्रत्येक धर्म करुणा, बंधुत्व

Read More... Buy Now

डॉ॰ अंबेडकर और उनका धम्म

Books by इंजीनियर डी॰ के॰ प्रभाकर

बाबा साहब डॉ॰ अंबेडकर कभी भी धर्म विरोधी नहीं रहे। वह धर्म को मानवता के लिए आवश्यक मानते थे। उनका परिवार कबीर पंथी था और वे जीवन के प्रारम्भ से ही संत कबीर कि शिक्षाओं से प्रभावि

Read More... Buy Now

आत्म निर्भर

Books by इंजीनियर डी॰ के॰ प्रभाकर

मनुष्य का आत्मनिर्भर होना ही अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलबद्धि होती है। उसके लिए उसे अनेक प्रयत्न करने पड़ते हैं। शिक्षा पूरी करने के उपरांत जब उसे यह ज्ञान हो जाता है कि तब उसे बिन

Read More... Buy Now

बहुजन शक्ति स्वरूपा

Books by इंजीनियर डी॰ के॰ प्रभाकर

बहुजन समाज यदि विषमतावादी संस्कृति को नष्ट करके समतावादी संस्कृति के आधार पर समतामूलक समाज बनाना चाहता है तो उसे विषमतावादी संस्कृति को अलग थलग छोडकर उसके समानान्तर अपनी समता

Read More... Buy Now

शक्ति स्वरूपा

Books by इंजीनियर डी॰ के॰ प्रभाकर

नारी शक्ति के बिना इस संसार में मनुष्य कुछ भी नहीं कर सकता है, क्योंकि बिना नारी शक्ति उसकी दशा बिना इन्जन वाली गाड़ी जैसी होती है। इस धरती पर सबसे पहले नारी शक्ति के रूप में माँ द

Read More... Buy Now

निर्माण आंकलन

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

मनुष्य की आधाभूत अवश्यकताओं रोटी, कपड़ा और मकान में से एक सबसे बड़ी अवश्यकता मकान की भी होती है। उसी के आधार मूलभूत ढांचे को खड़ा करने के लिए सरकार भी बिभिन्न प्रकार की परियोजनाओं क

Read More... Buy Now

शोषित का संकल्प

Books by इंजीनियर डी॰ के॰ प्रभाकर

भारत एक धर्म प्रधान देश है। यहाँ बिभिन्न धर्मों के लोग अपनी बिभिन्न धर्म मर्यादायों को निभाते हुये अपना जीवन यापन करते हैं। लेकिन यह भी यहाँ की सच्चाई है की प्रायः सभी धर्मों मे

Read More... Buy Now

भवन निर्माण

Books by इंजीनियर डी॰ के॰ प्रभाकर

आज तो क्या पोरामणक काल िे ही िनुष्य के जीवन की िौमलक आवश्मकताओं िें तीन िीजें प्रिुखता िे रहीं हैं, वह हैं रोटी, कपड़ा और िकान। यह िनुष्य की ऐिी िूल भूत आवश्मकतायें है मजनके मवना िा

Read More... Buy Now

निर्माण श्रमिक

Books by इंजीनियर डी॰ के॰ प्रभाकर

भारत वर्ष एक कृषि प्रधान देश है, साथ ही भारत की बहु संख्यक आबादी आज भी मजदूरी पर आधारित है। चाहे वह कृषि मजदूर हों, औद्योगिक मजदूर हों अथवा निर्माण मजदूर हों। 

Read More... Buy Now

परियोजना प्रबंधन

Books by इंजीनियर डी॰ के॰ प्रभाकर

भारत एक कृवर् प्रधान देि है। कृवर् के िाद, वनमाथण उद्योि भारत का दूसरा सिसे िडा उद्योि है। यह उद्योि भारत के सकल घरेलू उत्पाद का आठ प्रवतित वहस्सा है क्ोंवक यह हर साल लिभि 40 वमवलय

Read More... Buy Now

बचपन एक भगवान का

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

विश्व रत्न, शोषित के भगवान, तथागत आदि विश्लेषणों से जिनको सारा विश्व जनता है ऐसे बाबा साहब डॉ॰ भीमराव अंबेडकर के बचपन के बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। क्योंकि जब उनका बचपन हि

Read More... Buy Now

आदिमानव, उद्भव और विस्तार

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

आदिमानव का उद्भव तथा उसका विस्तार पोराणिक काल से ही रहस्य का विषय रहा है। इस विषय में कोई भी धर्म इस पर एकमत नहीं है कि आदिमानव का जन्म तथा उसका विस्तार किस प्रकार हुआ।
पाश्चात्

Read More... Buy Now

डॉ॰ अंबेडकर दर्शन

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

विश्व में विशेष रूप से भारत वर्ष के जन मानस के हृदय में विश्व रत्न बाबा साहब डॉ॰ भीम राव अंबेडकर का दर्शन गहरे तक बैठ गया है। बाबा साहब डॉ॰अंबेडकर का दर्शन आखिर है क्या, यहाँ हम इस

Read More... Buy Now

राजकीय लोकतान्त्रिक समाजवाद

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

विश्वरत्न बाबा साहब डॉ॰ भीमराव अंबेडकर राजकीय लोकतान्त्रिक समाजवाद के प्रवल समर्थक थे। वह चाहते थे कि भारत का आर्थिक दर्शन राजकीय लोकतान्त्रिक समाजवाद पर आधारित हो। भारत की स

Read More... Buy Now

भारतीय किसान बनाम ग्रामीण विकास

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

भारत एक कृषि प्रधान देश है तथा इसकी दो तिहाई आबादी गांवों में निवास करती है। इस ग्रामीण आबादी में भी अधिकांश लोग कृषि पर निर्भर रहकर जीवन यापन करते हैं । इसके लगभग 70 प्रतिशत लोग क

Read More... Buy Now

लोकतन्त्र के तानाशाह

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

भारत की संसदीय प्रणाली में प्रधानमंत्री का एकछत्र राज चलता है। एक प्रकार से यह लोकतंत्र की तानाशाही है। क्योंकि भारतीय संसदीय प्रणाली में प्रधानमंत्री को असीमित अधिकार मिलते

Read More... Buy Now

शिक्षा संघ संघर्ष प्रवीण

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

शिक्षा, संघ (संगठन) और संघर्ष (बुराइयों से) किसी भी समाज के लिए वह रक्षा कवच रहा है जिसे धरण करके कोई सभ्य समाज अपने मान, आत्मसम्मान, स्वाभिमान तथा अपनी पीड़ी के भविष्य के गौरव को अक्

Read More... Buy Now

शूद्रों का राष्ट्र निर्माण में योगदान

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

जब हम राष्ट्र के निर्माण में शूद्रों के योगदान की बात करते है तो हमें सर्व प्रथम उस स्वर्ण युग की बात याद आती है जब कोई भी ब्राह्मण, क्षत्री, वैश्य अथवा शूद्र नहीं होता था। सभी एक उ

Read More... Buy Now

पूंजीवाद

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

पूंजीवाद व्यवस्था में आर्थिक रूप से कमजोर व श्रमिकों का खास खायाल रखा गया था।  देश में पूंजीबाद हावी न होने पाये इसके लिए सरकारी व सार्वजनिक उद्यमों तथा भारी कल कारखानों की नी

Read More... Buy Now

भय, भूख और भृष्टाचार

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

भय, भूख और भृष्टाचार एक ऐसा विषय है जो जन जीवन पर गहरा प्रभाव डालता है। इन तीनों कार्यों को नियंत्रण करने की ज़िम्मेदारी सरकार की होती है। सरकार इन तीनों ही समस्याओं को दूर करने  

Read More... Buy Now

हिन्दू कोड बिल

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

हिंदू जीवन पद्धति में बदलाव लाने के कई प्रस्ताव पहले भी हो चुके थे लेकिन इसमें शोषित, पीड़ित, अपमानजनक जीवन जीने वालों तथा सभी समाज की महिलाओ के जीवन यापन में सुधार या कोई भी बदलाव

Read More... Buy Now

जातिवाद पर करें प्रहार शिक्षा, स्वस्थ्य और संस्कार

Books by देवेंद्र कुमार प्रभाकर

निःसंदेह जाति प्रथा हिन्दू धर्म के साथ ही भारतवर्ष के लगभग सभी धर्मों में व्याप्त एक सामाजिक कुरीति है। ये विडंबना ही है कि देश को आजाद हुए सात दशक से भी अधिक समय बीत जाने के बाद भ

Read More... Buy Now

कोरोनावायरस और भारतीय समाज

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

वैसे तो पूरा विश्व ही कोरोनावाइरस महामारी से तृस्त है किन्तु विकसित देशों के मुकावले भारतवर्ष की सामाजिक संरचना कुछ ऐसी है कि सामूहिक व सामुदायिक रूप में रचावसा भारतीय समुदाय

Read More... Buy Now

ब्राह्मणवाद

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

आज कल भारतीय राजनीति में जो शब्द सर्वाधिक प्रयोग होता है वह है ब्राह्मणवाद। यह ब्राह्मणवाद रूपी शब्द कहाँ से आया, यह कैसे भारतीय सामाजिक ताने बाने में रच बस गया यह एक शोध का विषय

Read More... Buy Now

भारतीय समाज और जातिवाद

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

वैसे तो भारत में खासकर हिन्दू समाज में जातिवाद रूपी कोड़ सदियों पुराना है और सदियों से शूद्र समाज को इसका डंक झेलना पड़ा है। सदियों से पीड़ित, शोषित और गुलामी जंजीरों से जकड़े इस बहु

Read More... Buy Now

डा॰ बी॰ आर॰ आंबेडकर और भारत का संविधान

Books by देवेंद्र कुमार प्रभाकर

सारा विश्व इससे परिचित है की भारत के संबिधान के प्रारूप का निर्माण करने में विश्व रत्न बाबा साहब डा॰ बी॰ आर॰ आंबेडकर की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। विश्व स्तर के कानून विशेषज्ञ, स

Read More... Buy Now

बुद्ध शरण की राह

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

आधुनिक युग में संसार में, खासकर भारत वर्ष में बोद्ध धर्म का प्रादुरभाव भारत की आज़ादी के बाद हुआ है, जिसका श्रेय विश्व रत्न तथागत बाबा साहब डा॰ भीमराव अंबेडकर को जाता है जिन्होंने

Read More... Buy Now

प्रभा प्रभाकर तरुणाई

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

यह पुस्तक मेरी तरुण अवस्था में लिखी गयी कविताओं का संकलन है। कुछ कविताओं में समाज की उस अवस्था का वर्णन है जिससे एक बड़ा समाज पीड़ित रहा है। वहीं कुछ कविताओं का संबंध सामाजिक ताने

Read More... Buy Now

कृष्णअनुसंधान अथवा भगवान से साक्षात्कार

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

बहुत से लोगों के लिए कृष्णअनुसंधान अथवा भगवान से साक्षात्कार विषय कुछ नया हो सकता है किन्तु जब से मानव इस धरती पर आया है और मानव सभ्यता कि उत्पत्ति हुई है, बुद्धि का विकास हुआ है,

Read More... Buy Now

शोषित के भगवान - डॉ. बी. आर. आंबेडकर

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

हिन्दू धर्म में व्याप्त बुराइयों के कारण हिन्दू धनाद्य वर्ग ने अपने स्वार्थवश हिन्दू धर्म के ही एक बड़े समूह को जातिवाद में बाँटकर उनकी जिंदगी गुलामों से भी बदकर कर दी थी। उस बड़े

Read More... Buy Now

सामाजिक न्याय का प्रथम सोपान - आरक्षण

Books by देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

भारतवर्ष के संदर्भ में आरक्षण एक गूण विषय है जिसके अंतर्गत अनेक प्रकार के आरक्षण आते हैं, जैसे राजनेटिक आरक्षण, सामाजिक आरक्षण, आर्थिक आरक्षण, न्यायायिक आरक्षण, रक्षा सेवाओं मे

Read More... Buy Now

Edit Your Profile

Maximum file size: 5 MB.
Supported File format: .jpg, .jpeg, .png.
https://notionpress.com/author/