Hindi

फिर से
By Aishwarya Srivastava in Poetry | Reads: 506 | Likes: 9
सब्र कर.....फिर से वह आवाज़ें गूंजेंगी, अरे सुनती हो मैं आता हूँ, बॉस रस्ते में है! अरे माँ मैं निकल रही हूँ!  फिर से दफ्त  Read More...
Published on Jun 2,2020 03:51 PM
अच्छा होता
By Priyanka Rajput in Poetry | Reads: 298 | Likes: 0
अच्छा होता  कोरोना न होता दिल में हर पल दबा सा डर न होता  अपना ही घर कैदखाना न होता जो घर पर नहीं घर पहुँचने में  अ  Read More...
Published on Jun 2,2020 05:49 PM
नज़रअंदाज़ी
By Priyanka Rajput in Poetry | Reads: 203 | Likes: 0
तेरी नज़रअंदाज़ी का आलम ये है  कि हर गुजरता लम्हा चीख रहा  उसे इश्क है...उसे इश्क है!!! - ModernGirlOldValues   Read More...
Published on Jun 2,2020 06:33 PM
बहोत रूलाया है ।
By Ajahar Rahaman in Poetry | Reads: 552 | Likes: 1
माही मुझे बहोत रूलाया है तुमने । अब छोड़ दो मुश्कराने के लिए । बहोत टूटा ,बिखरा ,हर हाल में रहता हूँ हर दम तुम्हारे पा  Read More...
Published on Jun 2,2020 07:33 PM
जब भारत में होगी क्रांति तब एशिया में होगी शांति।
By Master Tulsi Gyaan in Poetry | Reads: 171 | Likes: 0
https://educational3012.blogspot.com/2020/06/blog-post.html?m=1 अधिक समय तक शांति चाहते हो तो नापाक देश पाकिस्तान में कर दो बेमिसाल 50 धमाके!* लगे ऐसा जैसे कि  Read More...
Published on Jun 2,2020 09:13 PM
याद रखा
By Atul shagird in Poetry | Reads: 713 | Likes: 4
कुछ उजड़ गया कुछ बिगड़ गया कुछ कल के लिए आबाद रखा तेरे क़दमों की आहट भूला दि मैंने तेरा लौट के आना याद रखा कुछ तनहा शा  Read More...
Published on Jun 2,2020 10:17 PM
Grahini
By Anjali Thakur in Poetry | Reads: 526 | Likes: 7
गृहिणी हूँ मैं, घर ही मेरी कर्मभूमि,  परिवार के प्रेम की डोर से हूँ बंधी। देश सेवा में जुटे हैं योद्धा महान, हाथ जो  Read More...
Published on Jun 2,2020 10:52 PM
Majbooriyan
By Anshika Chauhan in Poetry | Reads: 202 | Likes: 0
चंद रुपयों के खातिर जो घर से इतना दूर हुए है, इस कॉरोना के चक्कर में  घर आने को मजबूर हुए हैं। भूके पेट और खाली जेब न  Read More...
Published on Jun 3,2020 07:17 AM
मन में थोडी लगन हो..
By vaishnavi gundewar in Poetry | Reads: 390 | Likes: 2
मन में थोडी लगन हो.... दुर जाने का सपना हैं.. कुछ कर दिखाने का जज्बा हैं.. क्युंकि मन में थोडी सी लगण हैं... सबको खुश रखणा ह  Read More...
Published on Jun 3,2020 08:18 AM
जज़्बात
By Lavi Chauhan in Poetry | Reads: 206 | Likes: 1
कि जान बचाने के आड़ में जान लोगे क्या , गर कहूं मैं की तुमसे बेतहाशां नफ़रत है तो मान लोगे क्या..!!  जो कुछ भी था रिश्त  Read More...
Published on Jun 3,2020 01:18 PM
यह मरने मराने का ग़म
By gagan arya in Poetry | Reads: 372 | Likes: 0
यह मरने मराने का ग़म  हमसे मत पूछो साहेबजिनकी उजड़ी हैं कोख़ेंपूछो तो उन माओं सेसुहाग़ उजड़ गऐ जिनकेपूछो उन बेवा  Read More...
Published on Jun 3,2020 02:22 PM
Someone
By Ankita Kriplani in General Literary | Reads: 270 | Likes: 0
Ek khawab sa tha wo pal, Jab tumne dastak di thi, Iss anjane se dil k darwaje ko. Teri wo gungunati aawaj sunn k hi mann pighal sa gaya, yuhi gungunana mera bhi shuru ho gaya. Teri wo Khilkhilati hasi Kaano me padte hi, muskan mere chere pe laa gayi.  Uss kudrat ka bhi kis tarike se shukriya ad  Read More...
Published on Jun 3,2020 03:37 PM
My imagination
By ayushee singh in True Story | Reads: 249 | Likes: 3
Duniya me bhut se aise log hai jo dusre logo ki Kami nikalte rhte hai . Unhe unke acchayi nhi dikhayi deti.  Wo sirf unki burayi pe dhyan dete hai .       Isi tarah ye bhi ek khani hai jo isi par aadharit hai.        Ek bar ek chote se gav me ek privar rhta th  Read More...
Published on Jun 3,2020 04:25 PM
काश थोड़ा जी लिया होता…
By Rahul Desai in Poetry | Reads: 376 | Likes: 0
सपनों की दुनिया को जीतने के लिए,काश, हमने वास्तविकता को थोड़ा पहचान लिया होता. आसमान को छूने के अरमान लिए,काश, हमने ज़म  Read More...
Published on Jun 3,2020 05:27 PM
The elephant story
By Shraddha Joshi in True Story | Reads: 252 | Likes: 1
क्या दोष था मेराजो मैं दुनिया भी देख ना सकी किस चीज की सजा दी मुझेजो अम्मा भी मुझे देख ना सकीइस दुनिया में लोग पूजते   Read More...
Published on Jun 3,2020 10:57 PM