शहद की फ़ीकी लक़ीर (मोनोलॉग)
By Devesh Path Sariya in Mythology | वाचलं गेलेलं: 29,317 | लाइक: 729
शीर्षक: शहद की फ़ीकी लक़ीर (मोनोलॉग) तुम्हारी स्मृतियों की छूट गई लकीर से बना एक शब्दचित्र है। गद्य है। सारी उलझन इस  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jun 11,2022 08:17 PM
आवाज़
By Navin Rangiyal in Fantasy | वाचलं गेलेलं: 6,897 | लाइक: 81
आवाज़ मैं बचपन में अपने से बड़ी उम्र के लड़कों और लफंगों के साथ रहा, मैं महज सात साल का था, लेकिन तकरीबन जवान हो चुके लड़क  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 8,2022 08:51 PM
डोम
By Lakhan Raghuvanshi in Romance | वाचलं गेलेलं: 28,009 | लाइक: 420
  डोम वो अपने बारे में हर बात इतनी सहज और सामान्‍य तरीके से बताती है कि सबकुछ असामान्‍य सा लगता है। उसकी बात सुनत  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 10,2022 06:54 PM
आँगन की नमी
By itsmesarita78 in Women's Fiction | वाचलं गेलेलं: 2,585 | लाइक: 20
संभल संभल पग धारो पधारो मंगल द्वारे हे दुल्हिन रानी पधारो जेठ महीने दुल्हिन उतारती गाँव भर की औरतें। ये धरमुपुर -क  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 9,2022 11:55 PM
ठंडक
By Alok Kumar Mishra in Life Journey | वाचलं गेलेलं: 6,928 | लाइक: 96
ठंडक उसकी धड़कनें सामान्य से दुगुनी रफ़्तार में भागे ही जा रहीं थीं। ऐसा नहीं था कि रिक्शे में बैठने से पहले वह कोई भ  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jun 25,2022 12:06 PM
'अमल' - ज़िन्दगी में वापसी की उम्मीद
By Tapasya Bhatt Kapur in Women's Fiction | वाचलं गेलेलं: 1,131 | लाइक: 9
आज सूर्य ला सकता है जीवन में उम्मीद की किरण। उसने सूर्य में ढूँढ़ा अपने पिता को। पहाड़ उसे अपने सीने से लगा कर ले सकते   आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 1,2022 07:34 PM
अपराधबोध
By Neerav in Romance | वाचलं गेलेलं: 1,290 | लाइक: 0
प्यार के उन दिनों में घनघोर आशावादी हो गया था, बिलकुल अपनी माँ की तरह। वह दिन की निराशा में आशा की रात बुनती रहती थी।   आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 9,2022 09:39 PM
सन्दूक
By yogeshdhyani85 in True Story | वाचलं गेलेलं: 1,802 | लाइक: 11
धीरे धीरे पुराना सब हटा दिया गया था। कपड़े धोने की मुगरी , मसाला पीसने का सिल, टेप रिकार्डर.....समय के साथ जो भी अप्रासं  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 6,2022 08:36 PM
छूटे हुए लोग
By deepika.ghildi85 in Young Adult Fiction | वाचलं गेलेलं: 4,511 | लाइक: 35
सात पहाड़ियों से घिरा ये गाँव जैसे किसी चिड़िया के डैनों में छिपा उसका बच्चा, इनमें से एक के पीछे से सूरज निकलता और दे  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 10,2022 04:14 PM
अंडा भात- मध्याहन भोजन
By DEEPAK SINGH in Children's Literature | वाचलं गेलेलं: 1,063 | लाइक: 3
माँ हम नहीं जाएंगे स्कूल। मेरा मन नहीं है - यह कहते हुए मंगला ने माँ से स्कूल नहीं जाने के लिए गुहार की। मंगला की माँ   आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jun 11,2022 05:10 PM
जीवाश्म
By maheshtheatre in True Story | वाचलं गेलेलं: 1,268 | लाइक: 8
  प्रेम जब शेष दुनिया सुदूर ग्रहों पर जीवन की संभावना तलाश कर रही थी, उसी दौरान ब्रह्मांड के सबसे चर्चित ग्रह पर एक  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 10,2022 11:49 PM
श्याम वर्ण के दर्पण
By Dr Arti 'Lokesh' in Women's Fiction | वाचलं गेलेलं: 3,003 | लाइक: 32
“नेमु! दो कप चाय ले आ गार्डन में।” अपने घुँघराले बालों को लपेटकर जूड़े का रूप देते हुए स्वर्णलेखा सीढ़ियों से उतरी  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 4,2022 02:25 PM
पंख अभी सलामत हैं
By Anurag Anant in Fantasy | वाचलं गेलेलं: 2,109 | लाइक: 10
तो एंजेल ने सोचा कि उसके मर जाने के बाद लोग क्या सोचेंगे? क्या करेंगे? क्या कहेंगे? उसके विचार में आजकल मृत्यु बहुत आ  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 6,2022 10:03 PM
जुगनू
By Shubham Negi in Young Adult Fiction | वाचलं गेलेलं: 2,970 | लाइक: 12
सूरज ढला, चाँदनी डरी, शमों की लवें कतरी गयीं जुगनुओं के एक टोले से पर सुबह तक रोशनी रही - आशीष उसके नाम का बुलावा आता ह  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jun 19,2022 09:27 AM
ऐसा भी होता है क्या ?
By roopvanitapas in Life Journey | वाचलं गेलेलं: 2,066 | लाइक: 22
मैंने एक रोते हुए बच्चे को अपनी माँ की तरफ़ भागते हुए देखा वह भागते-भागते गिर जा रहा था उसकी हथेलियाँ बहुत गंदी थीं उ  आणखी वाचा...
प्रकाशनाची तारीख Jul 8,2022 02:38 PM