Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

DHARTIPUTRI SITA / धरतीपुत्री सीता

Author Name: Ravindra Prabhat | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

इस पुरुष प्रधान समाज में राम की सर्वत्र चर्चा होती है, सीता की क्यों नहीं? आज का प्रगतिशील समाज राम को इसलिए दोष देता है कि उन्होंने गर्भवती सीता का परित्याग किया,  उसे वन में निर्वासित किया। उनका यह भी मानना है, कि सदियों से धरतीपुत्री सीता जैसी स्त्रियाँ, सत्ता के हाथों की गुड़िया रही है और राम सरीखे मर्यादा पुरुषोत्तम सत्ता तक पहुँचने के साधन। इतिहास में सीता के जन्म को लेकर भी अनेकानेक भ्रांतियाँ है। कहते हैं, सीता पृथ्वी से निकलीं। क्या बच्चे पृथ्वी से जन्म लेते हैं? जिस धनुष को दस-दस हजार राजा नहीं उठा सके, सीता उसी को उठाकर प्रतिदिन सफाई करती थी, क्या यह तथ्य विचित्र प्रतीत नहीं होता? उसी प्रकार सीता पृथ्वी में समाहित हो गई। सर्वत्र रामराज्य स्थापित हो गया। यह कहाँ तक सत्य है? सीता और राम के बारे में क्या सोचती है आज की पीढ़ी?  इन्हीं सब बातों की पड़ताल करता रवीन्द्र प्रभात का यह उपन्यास सीता से जुड़ी प्रमुख घटनाओं को सामने लाने का एक विनम्र प्रयास है। 

Read More...
Paperback
Paperback 500

Inclusive of all taxes

New orders are temporarily suspended due to COVID-19 lockdowns and subsequent restrictions on movement of goods.

Also Available On

रवीन्द्र प्रभात

रवीन्द्र प्रभात भारत के एक हिंदी उपन्यासकार, पत्रकार, कवि और कथाकार हैं। उनकी  रचनाओं को अन्य भाषाओं में अनुवादित किया गया है और विभिन्न साहित्यिक पत्रिकाओं तथा समाचार पत्रों में प्रकाशित किया गया है। वे एक यथार्थवादी लेखक  हैं, जो अक्सर सामाजिक विषयों के साथ साथ मानवीय पीड़ा पर लगातार लिखते रहे हैं। उनकी लेखनी अक्सर मानवीय पीड़ा और सामाजिक मुद्दों को स्पर्श करती रही है।  वे हिन्दी ब्लोगिंग का ऑस्कर कहे जाने वाले सम्मान परिकल्पना पुरस्कार के संस्थापक सदस्य हैं। वर्तमान में वे परिकल्पना समय (हिंदी मासिक पत्रिका) के प्रधान संपादक  हैं। उनकी प्रकाशित पुस्तकें- (1) हमसफर  ( प्रथम गीत-गजल संग्रह, 1991), मत रोना रमज़ानी चाचा (गजल संग्रह, 1995), स्मृति शेष (काव्य संग्रह, 2000), ताकि बचा रहे लोकतन्त्र (उपन्यास,  2012) (5) प्रेम ना हाट बिकाए (उपन्यास,  2012) (6) धरती पकड़ निर्दलीय (उपन्यास,  2013) (7) लखनऊआ कक्का (भोजपुरी उपन्यास,  2018) (8) समकालीन नेपाली साहित्य (महत्वपूर्ण लेखन, निबंध और साक्षात्कार, 1995) (9) हिन्दी ब्लॉगिंग का इतिहास (2011)  ( (10) हिन्दी ब्लॉगिंग: अभिव्यक्ति की नई क्रांति (2011)   (11) हिंदी भाषा के विविध आयाम (2018)  (हिंदी निबंध संग्रह) (12) कश्मीर 370 किलोमीटर (उपन्यास, 2020) (13) सामाजिक मीडिया और हम (2020) (14) शेयर मार्केट: निवेश के तरीके (2020) टेली डाक्यूमेंटरी- नया बिहान (पटकथा लेखक, 1992) "बिहार शिक्षा परियोजना" में सीतामढ़ी जिले की यूनिट में यूनेस्को से संबंधित योजना के तहत महिला शिक्षा पर आधारित टेलीविजन डॉक्यूमेंट्री फिल्म का प्रसारण। जालस्थल- http://www.ravindraprabhat.in/ पत्राचार का पता- परिकल्पना, एन -1/107, सेक्टर-एन -1, संगम होटल के पीछे, लखनऊ -226024 (यू.पी.) संपर्क ईमेल आईडी- ravindra.prabhat@gmail.com/ मोबाइल नंबर 9415272608

Read More...