#writeyourheartout

Share this product with friends

Kashi - mokshadayini aur jivanadayini / काशी - मोक्षदायिनी और जीवनदायिनी

Author Name: Lava Kush Singh "vishwmanav" | Format: Paperback | Genre : Educational & Professional | Other Details

विषय- सूची

भाग-1: काशी (सत्व)

शिव
तीसरी आँख (Third Eye)
योगेश्वर (ज्ञान का विश्वरूप) और भोगेश्वर (कर्मज्ञान का विश्वरूप)
ज्योतिर्लिंग : अर्थ और द्वादस (12) ज्योतिर्लिंग
ज्योतिर्लिंगों का स्थान
काशी
मोक्षदायिनी काशी और जीवनदायिनी सत्यकाशी : अर्थ व प्रतीक चिन्ह

भाग-2 : मोक्षदायिनी काशी (रज)
(www.kashikatha.com)

विश्वेश्वर (योगेश्वरनाथ) : प्रथम ज्योतिर्लिंग क्यों?
मोक्षदायिनी काशी : पंचम, प्रथम एवं सप्तम काशी 
मोक्षदायिनी काशी : वाराणसी
काशी विश्वनाथ मन्दिर
रामनगर
काशी (वाराणसी)-घटना क्रम की दृष्टि में
काशी (वाराणसी) में श्रीकृष्ण
काशी (वाराणसी) में भगवान बुद्ध
काशी (वाराणसी) में स्वामी विवेकानन्द
काशी (वाराणसी) में श्री लव कुश सिंह “विश्वमानव”
काशी चौरासी कोस यात्रा 
सोनभद्र  
शिवद्वार
विन्ध्य पर्वत, क्षेत्र और धाम : विन्ध्यक्षेत्र से तय होता है भारत का मानक समय

 


भाग-3 : जीवनदायिनी सत्यकाशी (तम) 
(www.satyakashi.com)

भोगेश्वरनाथ: 13वाँ और अन्तिम ज्योतिर्लिंग क्यों?
जीवनदायिनी सत्यकाशी: पंचम, अन्तिम और सप्तम काशी
जीवनदायिनी सत्यकाशी: काशी (वाराणसी)-सोनभद्र-शिवद्वार-विन्ध्याचल के बीच का क्षेत्र
सत्यकाशी क्षेत्र से व्यक्त हुये मुख्य विषय
मीरजापुर 
चुनार एवं चुनार क्षेत्र 
सत्यकाशी में श्रीराम
सत्यकाशी में श्रीकृष्ण
सत्यकाशी में भगवान बुद्ध
सत्यकाशी में स्वामी विवेकानन्द
सत्यकाशी में श्री लव कुश सिंह “विश्वमानव”
जरगो नदी और श्री लव कुश सिंह “विश्वमानव”
व्यक्ति, एक विचार और अरबों रूपये का व्यापार
सत्यकाशी महायोजना
सत्यकाशी महायोजना-प्रोजेक्ट को पूर्ण करने की योजना
पाँचवें युग-स्वर्णयुग के तीर्थ सत्यकाशी क्षेत्र में प्रवेश का आमंत्रण

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 300

Inclusive of all taxes

Delivery by: 3rd Oct - 6th Oct

Also Available On

लव कुश सिंह “विश्वमानव”

कल्कि महाअवतार के रूप में स्वयं को प्रकट करते श्री लव कुश सिंह “विश्वमानव” द्वारा प्रकटीकृत ज्ञान-कर्मज्ञान न तो किसी के मार्गदर्शन से है और न ही शैक्षिक विषय के रूप में उनका विषय रहा है। न तो वे किसी पद पर कभी सेवारत रहे, न ही किसी राजनीतिक-धार्मिक संस्था के सदस्य रहे। एक नागरिक का अपने विश्व-राष्ट्र के प्रति कत्र्तव्य के वे सर्वोच्च उदाहरण हैं। साथ ही राष्ट्रीय बौद्धिक क्षमता के प्रतीक हैं।

Read More...