Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Misra Misra Gajal Aashiqaana Hui / मिसरा मिसरा गजल आशिकाना हुई कविताएँ सिर्फ़ इश्क़ पर/ Poems on Love

Author Name: Shubh Chintan | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

कविताओं के इस संकलन में विभिन्न तरह के भाव व्यक्त किए गए हैं, इश्क़ यानी प्रेम को दर्शाते हुएl सिर्फ़ महबूब और महबूबा की नहीं है ये कोई मिल्कियत; ख़ुदा और बन्दे के बीच जो रिश्ता है वो भी इश्क़ हैl इन कविताओं में इश्क़ को पूरी तरह उतारने की कोशिश हैI पढ़ने में अच्छी लगेंगी; उनको जिन्हें इश्क़ हो चुका है और उन्हें भी जिन्हें इश्क़ होना बाक़ी हैI

सूफ़ियाना ख़्यालों का शायर था मैं,

मिसरा मिसरा ग़ज़ल आशिक़ी हो गई l 

इश्क़ पानी में तेरे हैं क्या खूबियाँ, 

चार दिन में हरी ज़िंदगी हो गई l

Read More...
Paperback
Paperback 250

Inclusive of all taxes

Delivery by: 17th Mar - 20th Mar

Also Available On

शुभ चिंतन

लेखक भारतीय राजस्व सेवा (IRS, 1993 Batch) के अधिकारी हैं एवं वर्तमान में आयुक्त(GST), गुरुग्राम के पद पर कार्यरत हैं। लेखक की शिक्षा कक्षा बारहवीं तक हिंदी माध्यम से ज़िला अलीगढ़ में हुई और तत्पश्चात इंजीनियरिंग की डिग्री उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से प्राप्त कीl लेखक IIT दिल्ली में भी M.Tech के छात्र रहे हैं l लेखक को उनकी असाधारण कर्तव्यनिष्ठा एवं विशिष्ट सेवाओं के लिये गणतंत्र दिवस 2014 के अवसर पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया जा चुका है। लेखक को सीमा शुल्क प्रशासन में उनकी विशिष्ट सेवाओं के लिये विश्व सीमा शुल्क संगठन के महासचिव द्वारा भी प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया जा चुका है।

Read More...