Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Rashtragaurav Maharana Pratapsingh / राष्ट्रगौरव महाराणा प्रतापसिंह एक अपराजित योद्धा / Ek Aprajit Yoddha

Author Name: Jaypalsingh Girase | Format: Paperback | Genre : History & Politics | Other Details

जात-धरम तज वरग मन; वृद्ध-शिशु-नर-नारिह।
जद-जद भारत जुंझसि, पाथल जय थारिह।।

- पं. रामसिंह सोलंकी

अर्थात: हे प्रताप, जब-जब भारत वर्ष पर विपदा की स्थिति आएगी तब-तब भारत वर्ष के आबाल-वृद्ध तथा नर-नारी अपने जाति-धर्म-पंथ-प्रान्त की संकुचित भावना से ऊपर उठकर केवल तुम्हारे नाम का जयजयकार करेगी!

'या तो कार्य सिद्ध होगा या मृत्यु का वरन किया जायेगा' महाराणा प्रतापसिंह का यह भीषण प्रण उस काल के क्रांतिकारी स्वर्णिम इतिहास का गौरव लिखने के लिए कलम को सदैव प्रेरित करता है। राष्ट्र के सत्व-स्वत्व और स्वाभिमान की रक्षा के लिए भीषण कष्टों का सामना कर लगातार २५ साल तक साम्राज्यवादी शक्ति के साथ कड़ा संघर्ष करनेवाले राष्ट्रगौरव महाराणा प्रतापसिंह जी का चरित्र केवल भारत राष्ट्र के लिए ही नहीं अपितु समस्त संसार के स्वतंत्रता और स्वाधीनता प्रेमी नागरिकों के लिए आज भी स्फूर्ति का स्रोत है।

जब भारत की कई हिन्दू-मुस्लिम शासकों ने साम्राज्यवादी मुघल सल्तनत के सामने अपनी सार्वभौमिकता खो दी थी तब उसी प्रतिकूल संक्रमणकाल के दौरान महाराणा प्रतापसिंह मेवाड़ की धरती पर प्रखर विरोध का केंद्र बने रहे तथा सिमित संसाधन होकर भी गुरिल्ला और छापामार युद्धतंत्र का अवलंब कर अपनी स्वतंत्रता और सार्वभौमिकता को कायम रखा। विश्व के इतिहास में यह अनोखा उदाहरण होगा जहाँ अपने राजा के साथ-साथ प्रजा ने भी वनवास तथा कष्टप्रद जीवन व्यतीत किया। स्वभूमि विध्वंस जैसे कठोर कदम उठाकर मुघल रणनीति को परास्त करनेवाली सामरिक रणनीति आज भी सामरिक शास्रों के अध्ययन कर्ता तथा संशोधकों का ध्यान आकृष्ट करती है।

लेखक ने महाराणा प्रतापसिंह के जीवन काल की घटनाओं से सम्बंधित सैकड़ो सन्दर्भ ग्रंथों-साधनों का गहन अध्ययन कर, महाराणा प्रतापसिंह के वंशजों से प्रत्यक्ष रूबरू साक्षात्कार कर तथा महाराणा से सम्बंधित सभी स्थलों का प्रत्यक्ष अभ्यासदौरा कर इस ग्रन्थ में इतिहास की एक अभूतपूर्व त्याग-बलिदान और शौर्य से ओतप्रोत अपराजित संघर्ष गाथा को अभिव्यक्त करने का प्रयास किया है।

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback + Read Instantly 399

Inclusive of all taxes

Delivery by: 9th Nov - 12th Nov
Beta

Read InstantlyDon't wait for your order to ship. Buy the print book and start reading the online version instantly.

Also Available On

जयपालसिंह गिरासे

श्री जयपालसिंह गिरासे सुप्रसिद्ध ''आर.सी. पटेल शिक्षण संकुल,शिरपुर'' में अंग्रेजी विषय के अध्यापक के रुप में कार्यरत है। अंग्रेजी विषय के शिक्षक तथा टीचर्स ट्रेनर होने के साथ-साथ आप को इतिहास में भी अत्यंत रूचि है। राष्ट्रीय वक्ता के रूप में महाराणा प्रतापसिंह, राजस्थान के जौहर और साके, महाराणी पद्मिनी की अमर कथा, छत्रपति शिवाजी महाराज, वीरमदेव और जालौर, स्वामी विवेकानंद, भारत-उत्थान, पतन और पुनरुत्थान आदि विषयों पर विभिन्न राज्यों में अबतक सैकड़ौ प्रकट व्याख्यान कर चुके है तथा विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में आपके लेख-कविता-व्यंग निरंतर प्रकाशित होते रहते है। आपने भारत देश के अधिकांश राज्यों के विभिन्न ऐतिहासिक स्थलों का दौरा किया है। अहिरानी बोलीभाषा में प्रकाशित होनेवाले ''उबगेलवाड़ी.कॉम'' नामक ब्लॉग का निर्माण तथा संचालन कर लोकभाषा का संवर्धन करने में आपका विशेष योगदान रहा है।

आप के द्वारा लिखित राष्ट्रगौरव महाराणा प्रतापसिंह के जीवन पर आधारित १ ग्रन्थ (मराठी भाषा ) प्रकाशित हो चूका है तथा मराठी भाषा में एक कवितासंग्रह, अहिरानी भाषा में एक व्यंग और हिंदी में ऐतिहासिक विषयोंपर तीन उपन्यास प्रकाशनाधीन है।

Read More...