Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Kalki mahāvatār aa chuke haian (ACTION PLAN) / कल्कि महावतार आ चुके हैं (ACTION PLAN)

Author Name: Lava Kush Singh "vishwmanav" | Format: Paperback | Genre : Educational & Professional | Other Details

ACTION PLAN
20. स्वामी विवेकानन्द और कल्कि अवतार
21. बुड्ढा कृष्ण - कृष्ण का भाग दो और अन्तिम
22. काशी - मोक्षदायिनी और जीवनदायिनी
23. सत्यकाशी - स्वर्णयुग का तीर्थ
24. गणराज्य, संघ और मानकीकरण संगठन
25. मन का विश्वमानक और पूर्ण मानव निर्माण की तकनीकी (WCM-TLM-SHYAM.C)
28. विश्वमानव-वार्ता, वक्तव्य एवं वाणियाँ
29. विश्वमानव-पत्रावली एवं प्रसारण
30. विश्व शान्ति - अन्तिम सत्य दृष्टि
31. व्यापार केन्द्र (TRADE CENTRE)-दृश्य सत्य
32. पुनर्निर्माण (RENEW)-समस्या, समाधान और राष्ट्र निर्माण की योजना
33. सत्य जनहित आह्वान
34. वसुधैव - कुटुम्बकम्
35. मैं, व्यक्तिगत या सार्वभौम
36. सार्वभौम एकात्म - नव विश्व निर्माण
37. लव कुश सिंह (कल्कि महाअवतार)-जीवन, ज्ञान, कर्म और विश्वरूप
38. स्वर्णयुग का मानक आदर्श नागरिक - दिशा निर्देश
39. कर्मवेद : प्रथम अन्तिम तथा पंचम वेद
40. विश्वधर्म : परिचय (स्वर्णयुग का धर्म)
41. मानक विपणन प्रणाली (3F-FUEL-FIRE-FUEL)
42. कल्कि महावतार आ चुके हैं (ACTION PLAN)
43. आठवें अवतार श्रीकृष्ण के अनकहे संदेश
44. अयोध्या नहीं, मुंगेर है राम जन्मभूमि
45. संत एवं गुरू और विश्व संत एवं गुरू
46. समाज और ईश्वरीय समाज
47. सत्य शास्त्र और विश्वशास्त्र
48. कृति और विश्व कृति 
49. भारत माता मन्दिर और विश्वधर्म मन्दिर
50. मनु, मनवन्तर और कल्कि महावतार
51. ऋषि, ऋषि परम्परा और कल्कि महावतार
52. व्यास, शास्त्र और कल्कि महावतार
53. महाभारत और विश्वभारत
54. लव कुश (त्रेतायुग) और लवकुश (कलियुग)
55. देवीयाँ और सार्वभौम देवी माँ कल्कि
56. द्वादश ज्योतिर्लिंग और 13वां अन्तिम ज्योतिर्लिंग

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 250

Inclusive of all taxes

Delivery by: 2nd Nov - 5th Nov

Also Available On

लव कुश सिंह “विश्वमानव”

कल्कि महाअवतार के रूप में स्वयं को प्रकट करते श्री लव कुश सिंह “विश्वमानव” द्वारा प्रकटीकृत ज्ञान-कर्मज्ञान न तो किसी के मार्गदर्शन से है और न ही शैक्षिक विषय के रूप में उनका विषय रहा है। न तो वे किसी पद पर कभी सेवारत रहे, न ही किसी राजनीतिक-धार्मिक संस्था के सदस्य रहे। एक नागरिक का अपने विश्व-राष्ट्र के प्रति कत्र्तव्य के वे सर्वोच्च उदाहरण हैं। साथ ही राष्ट्रीय बौद्धिक क्षमता के प्रतीक हैं।

Read More...