Share this product with friends

Ravivar Aur Ateet ke Panne / रविवार और अतीत के पन्ने

Author Name: Vinay Gupta | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

लेखक द्वारा रविवार को लेकर विभिन्न अनुभव जो समाज में देखे गए हैं उन्हीं को लघु कहानियों के रूप में प्रस्तुत किया गया है। हर व्यक्ति के लिए रविवार के मायने अलग होते हैं। बदलते परिवेश में रविवार के मायने भी बदले हैं इन्हीं को रेखांकित करती हैं यह कहानियां। इसके अलावा कुछ कहानियां अपने मुख्य पात्र को वर्तमान से अतीत की ओर ले जाती हैं। आज जो उसका वर्तमान है वह अतीत किसी घटना पर आधारित है और वही अतीत उसके सामने कई प्रश्न लिए खड़ा है। लेखक  द्वारा उन प्रश्नों को सामने रखा गया है। और यह प्रयास किया गया है कि कहीं उनके उत्तर या समाधान मिल जाए। उम्मीद करते हैं आपको यह कहानी संग्रह पसंद आएगा।

Read More...

Sorry we are currently not available in your region.

Also Available On

Sorry we are currently not available in your region.

Also Available On

विनय गुप्ता

विनय गुप्ता पेशे से एक बैंकर है। लेखक का यह दूसरा प्रयास है। प्रथम प्रयास “अस्तित्व की खोज में” था, जो उन्होंने शौकिया तौर पर लिखा था और अपने चाहने वालों को वितरित किया। प्रथम प्रयास में लिखी कहानियों पर मिली प्रतिक्रियाएँ काफी प्रोत्साहित करने वाली थी।  उन्हीं प्रतिक्रियाओं के आधार पर वे अपना दूसरा प्रयास आपके सामने कहानियों के रूप में ला रहे हैं।

इंदौर में जन्मे लेखक‌ ने बैंकिंग स्तर पर हिंदी के क्षेत्र में कई पुरस्कार प्राप्त किए हैं । फिलहाल वे बेंगलुरु में पदस्थ हैं और अपने शौक, लेखन को जितना हो सके समय दे रहे हैं। अपने कार्य क्षेत्र में कई ऐसे अनुभव मिलते है, उन्ही अनुभवों को आप इन कहानियों में पायेगें |

Read More...