Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Samurna kranti - website margadarshan vivaranika / सम्पूर्ण क्रान्ति - वेबसाइट मार्गदर्शन विवरणिका

Author Name: Lava Kush Singh "vishwmanav" | Format: Paperback | Genre : Educational & Professional | Other Details

व्यापार का आधार

परियोजना – 1 (PROJECT-1) : सम्पूर्ण क्रांति
सम्पूर्ण क्रान्ति की अवधारणा में डिजिटलाइजेशन
वेबसाइट : परिचय और उपयोगिता
www.rashtriyanitiayog.com – “सामाज” क्षेत्र द्वारा भारत स्तरीय सम्पूर्ण क्रान्ति  के लिए नेटवर्क
एक भारत - श्रेष्ठ भारत के निर्माण के लिए आवश्यक कार्य

www.moralrenew.com – “सत्य मानक शिक्षा” द्वारा भारत स्तरीय सम्पूर्ण क्रान्ति  के लिए नेटवर्क 
मानक
“सम्पूर्ण मानक” का विकास भारतीय आध्यात्म-दर्शन का मूल और अन्तिम लक्ष्य
सत्य मानक शिक्षा
“व्यापार” और “शिक्षा का व्यापार”
पिन कोड एरिया स्तर पर ”सृष्टि पुस्तकालय“
एक नागरिक - श्रेष्ठ नागरिक के निर्माण के लिए आवश्यक कार्य
नेतृत्वकर्ताओं के सम्बन्धित विचार  

www.leledirect.com – “व्यापार” क्षेत्र द्वारा भारत स्तरीय सम्पूर्ण क्रान्ति  के लिए नेटवर्क
सार्वभौम आर्थिक प्रणाली (UNIVERSAL ECONOMIC SYSTEM)
3-एफ (3-F : Fuel-Fire-Fuel) विपणन प्रणाली
लोकल – वोकल (LOCAL - VOCAL) का अर्थ
ले ले डायरेक्ट - www.leledirect.com : परिचय और वैधानिक (LEGAL) स्थिति
प्रणाली (SYSTEM) की मुख्य विशेषताएँ
पिन कोड एरिया एजेन्सी  (PIN CODE AREA AGENCY-PCAA) 
आर्थिक लाभ
बेरोजगारों व एम. एल. एम नेटवर्करों को आमंत्रण
दान नहीं, व्यापार
सारांश - सीधी समझ
नेटवर्क से जुड़ने की प्रक्रिया
आय और रायल्टी देने का हमारा आधार

परियोजना – 2 (PROJECT-2)
पुनर्निर्माण-राष्ट्र निर्माण का व्यापार
राष्ट्र निर्माण का व्यापार और उसकी विधि क्या है?
पुननिर्माण पद

परियोजना – 3 (PROJECT-3)
एक शहर - प्रोजेक्ट को पूर्ण करने की योजना
व्यक्ति, एक विचार और अरबों रूपये का व्यापार

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 175

Inclusive of all taxes

Delivery by: 5th Dec - 8th Dec

Also Available On

लव कुश सिंह “विश्वमानव”

कल्कि महाअवतार के रूप में स्वयं को प्रकट करते श्री लव कुश सिंह “विश्वमानव” द्वारा प्रकटीकृत ज्ञान-कर्मज्ञान न तो किसी के मार्गदर्शन से है और न ही शैक्षिक विषय के रूप में उनका विषय रहा है। न तो वे किसी पद पर कभी सेवारत रहे, न ही किसी राजनीतिक-धार्मिक संस्था के सदस्य रहे। एक नागरिक का अपने विश्व-राष्ट्र के प्रति कत्र्तव्य के वे सर्वोच्च उदाहरण हैं। साथ ही राष्ट्रीय बौद्धिक क्षमता के प्रतीक हैं।

Read More...