Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Satya shāstra evan purāṇ rahasya-maharṣhi vyās kalā / सत्य शास्त्र एवं पुराण रहस्य-महर्षि व्यास कला

Author Name: Lava Kush Singh "vishwmanav" | Format: Paperback | Genre : Educational & Professional | Other Details

विषय- सूची

भाग-1: शास्त्र

लेखक /शास्त्राकार
शास्त्र
महर्षि वेदव्यास
लेखकों /शास्त्राकारों के आदि पुरूष प्रतीक व्यास
वेदव्यास शास्त्र लेखन कला
“सम्पूर्ण मानक”का विकास भारतीय आध्यात्म-दर्शन का मूल और अन्तिम लक्ष्य
युगानुसार धर्म, प्रवर्तक और धर्मशास्त्र
व्यष्टि और समष्टि धर्मशास्त्र
शास्त्रार्थ, शास्त्र पर होता है, शास्त्राकार से और पर नहीं
 
भाग-2: पुराणः धर्म, धर्मनिरपेक्ष एवम् यथार्थ अनुभव की अन्तिम सत्य दृष्टि
पुराणों की सत्य दृष्टि 
ब्रह्मा अर्थात् एकात्मज्ञान परिवार 
विष्णु अर्थात एकात्म ज्ञान सहित एकात्म कर्म परिवार
शिव-शंकर अर्थात एकात्म ज्ञान और एकात्म कर्म सहित एकात्म ध्यान परिवार
श्रीमदभवद्गीता की शक्ति सीमा तथा कर्मवेद: पंचमवेद समाहित विश्वशास्त्र के प्रारम्भ का आधार
कालभैरव कथा: यथार्थ दृष्टि
भाग-3: मानक चरित्र

शिव और जीव
मानव और पूर्ण मानव
पौराणिक देवी-देवता: मनुष्य समाज के विभिन्न पदों के मानक चरित्र
भारतीय शास्त्रों की एक वाक्य में शिक्षा

Read More...
Paperback

Also Available On

Paperback 200

Inclusive of all taxes

Delivery by: 9th Oct - 12th Oct

Also Available On

लव कुश सिंह “विश्वमानव”

कल्कि महाअवतार के रूप में स्वयं को प्रकट करते श्री लव कुश सिंह “विश्वमानव” द्वारा प्रकटीकृत ज्ञान-कर्मज्ञान न तो किसी के मार्गदर्शन से है और न ही शैक्षिक विषय के रूप में उनका विषय रहा है। न तो वे किसी पद पर कभी सेवारत रहे, न ही किसी राजनीतिक-धार्मिक संस्था के सदस्य रहे। एक नागरिक का अपने विश्व-राष्ट्र के प्रति कत्र्तव्य के वे सर्वोच्च उदाहरण हैं। साथ ही राष्ट्रीय बौद्धिक क्षमता के प्रतीक हैं।

Read More...