Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

The first step of social justice - Reservation / सामाजिक न्याय का प्रथम सोपान - आरक्षण

Author Name: Devendra Kumar Prabhakar | Format: Paperback | Genre : Letters & Essays | Other Details

भारतवर्ष के संदर्भ में आरक्षण एक गूण विषय है जिसके अंतर्गत अनेक प्रकार के आरक्षण आते हैं, जैसे राजनेटिक आरक्षण, सामाजिक आरक्षण, आर्थिक आरक्षण, न्यायायिक आरक्षण, रक्षा सेवाओं में आरक्षण, व्यावसायिक आरक्षण तथा सरकारी व प्राइवेट नौकरियों में आरक्षण आदि।

भारतवर्ष में सदियों से आरक्षण का वोलवाला रहा है, जिसमें जातिगत व वर्णगत आरक्ष्ण को ही अधिक महत्व दिया गया है। सनातन हिन्दू काल से कभी भी आर्थिक आधार आरक्षण का विषय नहीं रहा है बल्कि सामाजिक सम्मान ही आरक्षण का विषय रहा है।

जातिगत व वर्णगत आरक्षण के कारण भारत को वर्षों गुलामी की जंजीरों से बांध कर रखा गया। जिस समय भारत को सोने की चिड़िया का काल कहा जाता है उस समय भी आरक्षण के आधार पर बोद्धिक संपदा पर अधिकार ब्रहमण वर्ग को ही था किन्तु ब्रहमण वर्ग भी विभिन्न जतियों और उपजातियों में बटा हुआ था, इस कारण किसी बात पर एक मत होना असंभव था क्योंकि सभी गुटों के अपने अपने निजी स्वार्थ थे।

मेरा मानना है कि सभी प्रकार का आरक्षण समाप्त कर दिया जाय और नए सिरे से सभी जातियों को उनकी आबादी के प्रतिशत के हिसाब से नौकरियो मे तथा राजनैतिक भागीदारी में आरक्षण की सीमा निश्चित कर दी जाए फिर उसी अनुपात में चाहे सामाजिक आधार् हो, आर्थिक आधार अथवा किसी भी आधार पर उसी जाति के हिस्से में से बटबारा  कर दिया जाए , इससे सभी झगङे स्वतः समाप्त हो जायेंगे I

इस पुस्तक में सामाजिक न्याय का प्रथम सोपान “आरक्षण” के मूल पहलुओं पर विचार विमर्श कर उन पर प्रकाश डाला गया है। आशा है पाठकगण उससे सहमत होंगे और अपना समर्थन देंगे। किसी भी सुझाव का स्वागत किया जाएगा।  पाठकगण अपने सुझावों से मुझे अवगत करने की कृपा करें जिससे आगामी प्रकाशनौ में सुधार कर प्रस्तुत किया जा सके।

Read More...
Paperback
Paperback + Read Instantly 140

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Beta

Read InstantlyDon't wait for your order to ship. Buy the print book and start reading the online version instantly.

Also Available On

देवेन्द्र कुमार प्रभाकर

ई. डी.के. प्रभाकर

प्रारंभिक जीवन
7-11-1955 को अलीगढ़ शहर के सिविल लाइन थाने के मुहल्ला जमालपुर माफी के अनुसूचित जाति समुदाय के एक गरीब राजमिस्त्री (श्री बसुदेव सिंह, पिता) के परिवार में 7-11-1955 को जन्मे।

1974 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, पॉलिटेक्निक से सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा पास किया।

1977 में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से B.E (बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग) पास किया।

पेशेवर अनुभव
भारत सरकार की कई परियोजनाओं जैसे महानगरीय परिवहन परियोजना (भूमिगत रेलवे), दुर्गापुर थर्मल पावर स्टेशन, ललितपुर में राजघाट बांध परियोजना, विशाखापत्तनम स्टील प्लांट, पीएसएलवी परियोजना inTiruvanatpuram और ISTRIN जमीन स्टेशन में काम किया। अंतरिक्ष की, सरकार। भारत की।

विभाग से इस्तीफा दे दिया। अंतरिक्ष सेवाओं की 1995 में जब मैं एक "कार्यकारी अभियंता" के रूप में काम कर रहा था, क्योंकि बचपन से ही मुझे समाज सेवा और राजनीति में दिलचस्पी थी, जो सरकार करते समय संभव नहीं था। सर्विस।

सरकार से इस्तीफे के बाद। सामाजिक सेवाओं और राजनीति करते समय मैंने "हाई-टेक सर्विसेज" नाम से पेशेवर सेवाएं ली थीं।

उनकी परियोजना "कटक में नेताजी जन्म स्थान संग्रहालय" पर "कला और सांस्कृतिक विरासत के लिए भारतीय राष्ट्रीय ट्रस्ट" (INTACH) के लिए काम किया।


व्यापार संघ के आंदोलन
"राष्ट्रीय परियोजना निर्माण निगम कर्मचारी संघ" के माध्यम से ट्रेड यूनियन आंदोलन में सक्रिय भाग लिया, शाखा सचिव से लेकर राष्ट्रीय आयोजन सचिव तक।

इस अवधि के दौरान मुझे मजदूर हित और ट्रेड यूनियन आंदोलनों के कारण दो बार जेल जाना पड़ा, लेकिन मैं स्थायी सरकार पाने में सफल रहा। परियोजना के लगभग 46 दैनिक वेतन श्रमिकों को सेवा।

सामाजिक कार्य
के राज्य अध्यक्ष के रूप में काम किया "डॉ। 1992 से अंबेडकर राष्ट्रीय एकता परिषद ”।
1985 से 1995 तक “Utter प्रदेश अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति अधिकारी कल्याण परिषद” के राज्य सचिव के रूप में काम किया।
1991 से अंबेडकर अकादमी, विकास नगर, लखनऊ के अध्यक्ष के रूप में कार्य करना।
1991 से, सर्व समाज हितकारी महासभा के अध्यक्ष के रूप में कार्य करना।
2009 से उत्तर प्रदेश राज्य आंगनबाड़ी कर्मचारी संघ के लखनऊ में प्रदेश प्रवक्ता और जिला अध्यक्ष के रूप में कार्य कर रहे हैं।
प्रिंट मीडिया
मुख्य संपादक "भीम वेदना" के रूप में 1992 से 2007 तक साप्ताहिक समाचार पत्र के रूप में काम किया। अखबार ने वर्तमान में वित्तीय कारणों के कारण इसकी छपाई को निलंबित कर दिया है।

Read More...