10 Years of Celebrating Indie Authors

Share this book with your friends

Back to Home Manju ki indian ghazalein / मंजु की इंडियन ग़ज़लें

Author Name: Manju | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

'मंजु' के इन ग़ज़ल-संग्रहों की विशेषता है इनकी ग़ज़लों में भारतीयों की आम बोलचाल की भाषा, जिसके कारण इनकी ग़ज़लें हर भारतीय के दिल में सरलता से उतर जाती हैं और सबको 'उनकी अपने मन की बात' सी लगती है. इसीलिए इन्हें 'मंजु की इंडियन ग़ज़लें' कहना बिल्कुल सही है.

'मंजु' के ये तीनों ग़ज़ल-संग्रह ग़ज़लसिंगर राम के द्वारा प्रस्तुत किये जा रहे हैं. 

ग़ज़लराइटर मंजु और ग़ज़लसिंगर राम दोनों ही विश्व के महान ग़ज़लसिंगर्स जगजीत सिंह चित्रासिंह से प्रभावित हैं जिन्होंने ग़ज़लों को भारतीय परिधान दिया और ग़ज़लों को देश-विदेश में बसे करोड़ों आम और ख़ास भारतीयों के घर-घर पहुँचाया.

मंजु और राम की ग़ज़लें यूट्यूब पर सुनी भी जा सकती हैं.

आशा है मंजु की इंडियन ग़ज़लें ग़ज़ल प्रेमियों को पसंद आएंगी!!

Read More...
Paperback
Paperback 385

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Also Available On

Manju

'मंजु'

पेशे से डॉक्टर हैं. वे दो डायग्नोस्टिक सेंटर्स का संचालन करती हैं तथा स्वयं सोनोग्राफी करती हैं. साथ ही ग़ज़ल लेखन की विधा में गहरी रुचि रखती हैं. इनके अब तक आठ ग़ज़ल-संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं. इस वर्ष इस ग़ज़ल-संग्रह "अपने घर की ओर.. (Back to Home..) " के साथ-साथ दो अन्य ग़ज़ल-संग्रह "अपनी तलाश में.. (In search of self..) तथा "किनारों के भँवर.. (Whirlpools of Edges..) भी प्रकाशित होने जा रहे हैं.

 

Read More...

Achievements