NP Recommends Week #17 – Best of हिन्दी Poetry

कैसे हैं आप ? इस सप्ताह हमारे एन  पी  रेकऐंड्स  मैं हमारे एडिटरओं ने आपके लिए हंडी कविताओं की कुछ किताबें आपके लिए चुनी है जो हमारे ही स्वतन्त्र लेखकों  की रचनाए है।

आप जल्द से जल्द इसको हमारे रीड इंस्टैंटली मंच पर पढ़ सकते हैं, इस दौरान आपकी किताब पहुँचा दी जाएगी।

रिश्तों के मोती 

रिश्तों के मोती यह एक कविता संग्रह ही नहीं , मेरे मन के उद्गार हैं जो मैंने अपनी माँ “कृष्णा” को समर्पित किये हैं। एक नारी के जीवन में रिश्तों की गहनता का क्या महत्त्व है, ये इन कविताओं की पंक्तियों में व्याप्त है। हो सकता है कि आपको भी इन कविताओं में अपने जीवन की एक झलक मिल जाये…

मणि सरीन

मणि “कृष्णा”

पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

तुम्हारी हमारी ज़िन्दगी 

कविताओं की एक प्रकृति होती है। इनको लिखा नहीं ढूँढ़ा जाता है। प्रकृति के हर कण में कविता है। ये कविताएँ झाँकती हैं और उद्गार को तत्पर रहती हैं। बस इन्हें ढूँढ़ने वाले चाहिए, जिनको हम बोलचाल की भाषा में ‘कवि’ कहते हैं। 

जीवन के निरंतर संघर्ष में मैंने भी कुछ कविताओं को ढूँढ़ने का प्रयास किया है। उम्मीद है, मेरे प्रयास को आप सबों का आशीर्वाद प्राप्त होगा। पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

बस यूँ ही

बांसुरी….. इस एक शब्द में भारतीय सृजनशीलता के अंतरतम को अभिव्यंजित  कर सकनें की क्षमता है । भारतीय कला संस्कृति इतिहास और मिथकों की विरासत जैसे इस एक शब्द में समायी हुई है इसके सुरों में जो गीतों के रूप में यहां पिरोए हुए हैं, हमारा अतीत झिलमिलाता है, वर्तमान कुरेदता है और भविष्य पुकारता है। यह बांसुरी ध्वनित हो रही है हमें वह सच सुनाने के लिए जिसे हम चाह कर भी अनसुना नहीं कर सकते। इसकी धुन में आपको बाहर का शोर भी सुनाई देगा और भीतर की शांति भी। रोज-ब- रोज के मानवीय सुख-दुख और जीत हार के खट्टे-मीठे अनुभव-संवेदना के साथ-साथ इसमें अंतर्मुख चेतना से उपजे स्थायी और व्यापक मूल्यों की लय है जो देश-काल-निरपेक्ष सत्य की अनुगूंज पैदा करती है। 

आम धारणा है कि कविता केवल भोली और कोमल भावनाओं के क्षेत्र में विचरण करती है और तीखे विश्लेषण से कविता का कोई लेना-देना नहीं। लेकिन, एक सच्चा कवि केवल अपने हृदय के भाव- प्रकोष्ठ में कैद नहीं रह सकता। उसे सबके हृदय में पहुंचना होता है अंतःकरण का यह विस्तार ही उसके रचना-कर्म को सार्थक करता है। बांसुरी की यह गूंज समसामयिक यथार्त के कर्णपटों पर भी आहट पैदा करती है। इसे सुनने के लिए संवेदनशील मन की तो दरकार है ही, साथ ही एक साहसिक उत्कंठा भी होनी जरूरी है।क्या आप इस साहस का दावा करेंगे?  पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

टूटी यादें

टूटी यादें मोहब्बत और रुस्वाई में बुनि हुई ज़िन्दगी का सारांश है। जिसमें ख्वाब हैं, तस्वीर हैं, इल्तेज़ा है, रौशनी है, सुकून है और हार है। ये किताब आपको अपने बीते हुए कल और आने वाले कल से परिचित करवाएगी। इश्क़ की तालीम सिखाएगी। मोहब्बत करना सिखाएगी। मोहब्बत में डूबना सिखाएगी। और मोहब्बत से उबरना सिखाएगी। पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

मेरी आवाज़

कुछ शब्द मेरे

इस संकलन में संकलित कविताओं के माध्यम से

लेखिका ने बड़े ही सरल शब्दों में जीवन और उसके

विभिन्न रंगों को दर् शाने का प्रयत्न कि या है। समाज

में पनप रहे आतंकवाद, बलात्कार जैसे घिनौने पाप

और वंश के नाम पर लड़के और लड़कि यों में हो रहे

भेद-भाव जैसे मुद्दों पर प्रकाश डाला है। रिश्ते जो

इंसान के जीवन का सबसे बहुमूल्य हि स्सा है, उस पर

अपनी रचना के रंग बिख ेरे हैं। एक औरत के जीवन

का सबसे बड़ा सुख-मात्रत्व का सुख होता है। उस

सुख से वंचि त रहने की पीड़ा को लेखिका ने शब्दों में प्रस्तुत करने का प्रयास कि या है।

लेखिका अपनी आवाज़ आप तक पहुँचाने में कि तनी सफल रही, इसका फ़ै सला पाठक स्वयं करे।

 पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।

 

आशा है आपको यह पसंद आयी हो।  मिलते हैं अगले सप्ताह कुछ और किताबों के साथ। 

(Visited 1,769 times, 2 visits today)