Join India's Largest Community of Writers & Readers

Share this product with friends

Smritiyaan / स्मृतियाँ

Author Name: Raghavender Yadgirkar | Format: Paperback | Genre : Poetry | Other Details

भगवन का देन ही है क्यूंकि कविता मुझे विरासत में तो नहीं मिली | आपके हाथ में पुस्तक "स्मृतियाँ" मेरी चुनी हुई २५ कविताओं का संग्रह है | "स्मृतियाँ" के माधयम् से मैंने अपनी रचनात्मक शैली में मनुष्य के अरमान, बचपन,तकदीर, मजबूरी, असहायता, पैसा, प्यार आदि के बारे में दर्शाने की कोशिश कि है |मैं चाहता हूं इन काव्य-रचनाएँ के ज़रिये आपकी "स्मृतियाँ" कि यात्रा चले, दौड़े, जुड़े और आपको पसंद आएं तो इसे मैं अपना सौभाग्य मानूंगा|

Read More...
Paperback
Paperback 150

Inclusive of all taxes

New orders are temporarily suspended due to COVID-19 lockdowns and subsequent restrictions on movement of goods.

Also Available On

राघवेन्दर यादगिरकर

भगवन का देन ही है क्यूंकि कविता मुझे विरासत में तो नहीं मिली | जब कभी समय, संदर्भ और वातावरण साथ दिया, अपने शैली और रूचि के अनुसार कविता लिखता रहा | घर पर उत्साहजनक माहौल मिलने के कारण मैं ग्यारह वर्ष की उम्र से ही कविता लिखने लगा | मेरे दो कविता "पहला दिन", "दिल की पुकार" प्रकाशित हो चुके है | मैंने अपने २५ कविताएं "स्मृतियाँ" पुस्तक के जरिए आप सब श्रोताओं के सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ |मुझे आशा है की मेरी  काव्य-रचनाएँ के ज़रिये आपकी "स्मृतियाँ" बने, जुड़े और आपको पसंद आएं तो इसे मैं अपना सौभाग्य मानूंगा | 

मेरा जनम हैदराबाद में हुआ | मेरे पिता (स्वर्गवासी) वसंत यादगिरकर, जॉइंट डायरेक्टर हॉर्टिकल्चर आंध्र प्रदेश से रिटायर हुए थे। मेरी माँ सावित्री यादगिरकर डिप्लोमा फार्मेसी में उत्तीर्ण । मेरा बचपन बड़े लाड-प्यार और घरेलु रख-रखाव में बीता और उसका श्रेय मेरे दोनों बड़े बहनों ( पुष्पा और माधवी) को जाता है । मेरी माँ , पत्नी सविता यादगिरकर (अबेकस और वैदिक गणित शिक्षिका) और हमारे दो बेटे रितविक और अक्षित यादगिरकर के साथ मैं हैदराबाद में रहता हूँ ।

प्रारंभिक शिक्षा हैदराबाद के सेंट डोम्निक्स हाई स्कूल से की, इंटरमीडिएट सेंट मैरी जूनियर कॉलेज से और उच्च शिक्षा के लिए जी.पुल्ला रेड्डी इंजीनियरिंग कॉलेज ,कर्नूल से बी.टेक (सिविल) की डिग्री प्राप्त किया। ऍम.बी.ए (मानव संसाधन) आईटीएम ,वरंगल से की और पिछले १९ साल से मानव सांसदन के क्षेत्र में काम कर रहा हूँ | 

इस किताब को आप तक पहुंचाने का श्रेय नोशन प्रेस के पूरे टीम, काव्या और खास कर वरुणा को , और मेरे दोस्त डॉ अनिल कुमार त्रिवेदी जिनका योगदान मैं यहाँ याद करना चाहूंगा | 

मुझे आपकी प्रतिक्रिया का इंतज़ार रहेगा |

राघवेन्दर यादगिरकर संपर्क ईमेल – dostdilyadgirkar@rediffmail.com  
ट्वीटर हैंडल - @yadgirkar_y
यूट्यूब चैनल दोस्त दिल - https://www.youtube.com/channel/UCYBn1yYY5gSLpfZcdImQYnw/videos

Read More...