#National Writing Competition

Share this product with friends

Devki / देवकी

Author Name: Anagha Joglekar | Format: Paperback | Genre : Literature & Fiction | Other Details

देवकी, श्री कृष्ण की माँ देवकी, कंस की लाडली बहन देवकी, वसुदेव की प्रिय पत्नी देवकी। तो देवकी क्या मात्र रिश्तों से ही जानी जाएँगी ? क्या उनका अपना कोई स्वतंत्र अस्तित्व नहीं ? क्या सत्य ही वटवृक्ष की छाया में पौधे पनप नही पाते? जिस स्त्री के गर्भ से साक्षात विष्णु के अवतार ने जन्म लिया, हमारे पुराणों में उस स्त्री का उल्लेख मात्र 2 पंक्तियों में समेट दिया गया?

मेरी पुस्तक आपको बचपन से लेकर मृत्यु तक की देवकी से भेंट करवाएगी। देवकी का बचपन चचेरे भाई कंस की छाया में बीता फिर कारावास की कठिनाइयों ने उन्हें एक सशक्त माँ और निर्भय स्त्री के रूप में उभारा। फिर भी देवकी आजीवन अपने पुत्र की प्रतीक्षा ही करती रहीं। ऐसी प्रतीक्षारत माँ के दुखों की गाथा ही है 'देवकी'

Read More...
Paperback
Paperback + Read Instantly 250

Inclusive of all taxes

Delivery

Item is available at

Enter pincode for exact delivery dates

Beta

Read InstantlyDon't wait for your order to ship. Buy the print book and start reading the online version instantly.

Also Available On

अनघा जोगलेकर

अनघा जोगलेकर 
 पेशे से इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर। पौराणिक पात्रों पर आधारित 4 उपन्यास व एक यात्रा वृत्तांत प्रकाशित। इनके उपन्यास 'बाजीराव बल्लाळ' को 'द्वितीय अंबिका प्रसाद स्मृति पुरस्कार' प्राप्त। श्रीराम पर आधारित उपन्यास महाराष्ट्र साहित्य सम्मेलन में चर्चा हेतु चयनित। इनके अश्वत्थामा पर लिखे उपन्यास को मध्यप्रदेश राष्ट्रभाषा प्रचार समिति द्वारा हिंदी सेवी सम्मान समारोह-2019 में 'अमिर अली मीर पुरस्कार' व मध्यप्रदेश का 'वागीश्वरी' पुरस्कार प्राप्त। इनका उपन्यास 'यशोधरा' हरिद्वार लिटरेचर फेस्टिवल में सम्मानित, इस पर टॉक शो तथा दूरदर्शन कवरेज, हिंदी लेखिका संघ मध्यप्रदेश द्वारा 'श्री श्याम लाल सोनी स्मृति पुरस्कार' प्राप्त। इनकी लघुकथाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और पुस्तकों में प्रकाशित जिनमें 'पड़ाव और पड़ताल',  'लघुकथा कलश',  पिट्सबर्ग से प्रकाशित 'सेतु', नीदरलैंड्स से प्रकाशित 'अम्स्टेल गंगा', लंदन से प्रकाशित 'पुरवाई' प्रमुख हैं। कई लघुकथा व कहानियाँ पुरस्कृत। 3 कथाओं का रेडियो प्रसारण।  इंदौर की क्षितिज नामक संस्था द्वारा 2018 में 'क्षितिज लघुकथा सम्मान' से सम्मानित। अब कहानी संग्रह प्रकाशित करने की तैयारी। 

Read More...